सिवान। स्थानीय थाना क्षेत्र के धोबवलिया गाव में ऑनर किलिंग मामले में 24 दिन बीत जाने के बाद आज तक पुलिस काड का पर्दाफाश नहीं कर सकी है। अभी न पोस्टमार्टम रिपोर्ट, न सीडीआर हासिल हो सकी है। काड का मुख्य आरोपी राजेश कुमार शर्मा भी पुलिस गिरफ्त में नहीं आ सका है। इससे पुलिस की कार्यशैली पर प्रश्नचिह्न लगता दिखाई दे रहा है। काड के अनुसंधानकर्ता राकेश कुमार रंजन का कहना है कि हम पोस्टमार्टम रिपोर्ट तथा सीडीआर के लिए कई बार सिवान गए, लेकिन अभी तक दोनों रिपोर्ट नहीं मिल सकी है। इधर मृत युवक जितेंद्र कुमार साह की मां शिवकुमारी कुंवर को आज तक इंसाफ नहीं मिलने से वह उदास है। उनका कहना है कि आखिर इस काड में कौन-कौन शामिल है। इसका पर्दाफाश पुलिस क्यों नहीं कर रही है।

ज्ञात हो कि धोबवलिया निवासी ईश्वर लाल शर्मा की पुत्री सविता कुमारी तथा बगल के ही स्व. बाकेलाल के पुत्र जितेंद्र कुमार साह के बीच प्रेम प्रसंग चल रहा था, जो सविता के परिवार वालों को मंजूर नहीं था। इसको लेकर सविता के परिवार वालों ने जितेंद्र को कई बार सुधर जाने की सलाह दी थी। फिर भी दोनों का प्रेम संबंध बना रहा। इसके बाद 31 अगस्त को दोनों की हत्या कर शव को गाव से एक किलोमीटर की दूरी पर एक सूनसान जगह पर एक पेड़ से लटका दिया गया। युवक जितेंद्र कुमार की मां के फर्दबयान पर युवती के पिता, भाई, चाचा, चचेरे, भाई को नामजद किया गया। पुलिस ने पिता को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया, लेकिन अन्य तीन अभियुक्त आजतक गिरफ्तार नहीं हो सके। पुलिस का यह दावा था कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट तथा सीडीआर के आधार पर काड की तह तक पहुंचा जा सकता है, लेकिन काड के 24 दिन बीत गए, आज तक पुलिस को कुछ हासिल नहीं हो सका है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस