सिवान। प्रखंड के बजरहिया रामजानकी शिव मंदिर के प्रागंण में चल रही सात दिवसीय भागवत कथा के तीसरे दिन सोमवार की रात्रि वृंदावन से पधारे देवकीनंदन ठाकुर महाराज ने भक्त प्रह्लाद का वर्णन करते हुए कहा कि इनके जैसा एक पुत्र हो जाए तो घर में सात पीढ़ी का कल्याण हो जाता है। उन्होंने कहा कि प्रह्लाद ने उतना दुख सहने के बाद भी अपने पिता के लिए भगवान नर¨सह से स्वर्ग की मांग की। महाराज ने कहा कि धर्म एवं कर्म पर विश्वास रखना चाहिए। आज के परिवेश में मानव अपने मूल उद्देश्य से भटकता जा रहा है। इसे हम सबको बचना है और मूल से भूल नहीं करना चाहिए। महाराज ने कहा कि प्रह्लाद के ऊपर कितना अत्याचार हुआ, सताया गया, फिर भी उनकी विजय हुई।

उन्होंने कहा कि आज के परिवेश में एक-दूसरे के समझने का कोई तैयार नहीं है। कथा वाचन के दौरान भक्ति संगीत से श्रोता मंत्रमुग्ध हो रहे हैं।

इस अवसर पर मजरूल हक महाविद्यालय के प्राचार्य प्रो. सुबोध ¨सह सहित सैकड़ों ग्रामीण उपस्थित थे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप