सीतामढ़ी। शुक्रवार को नशामुक्ति दिवस है। नशामुक्त बिहार बनाने का संकल्प लेने का दिन। किसी भी प्रकार की शराब, ताड़ी का निर्माण, सेवन, बिक्री, परिवहन पूर्णतया: प्रतिबंधित है। जिलाधिकारी सुनील कुमार यादव ने नशा मुक्ति दिवस 26 नवंबर को जिले में होने वाले कार्यक्रमों की सफलता को लेकर कलेक्ट्रेट में अपने चैंबर में बैठक की। जिसमें सभी अनुमंडल पदाधिकारी, उत्पाद, शिक्षा, जीविका, स्वास्थ्य, जनसंपर्क आदि के पदाधिकारी भी शरीक हुए। जिलाधिकारी ने जीविका के पदाधिकारी को निर्देश दिया कि नशा मुक्ति दिवस पर सभी गांवों में जीविका दीदी, आशा, आंगनबाड़ी सेविका एवं ग्रामीणों द्वारा नशा मुक्त बिहार बनाने को लेकर शपथ ली जाएगी। जिला शिक्षा पदाधिकारी को निर्देश दिया की सभी विद्यालयों के पोषक क्षेत्रों में सुबह आठ से नौ बजे के बीच प्रभातफेरी निकलवाई जाए। जिला स्तर पर कुमार चौक डुमरा से शंकर चौक होते हुए डुमरा स्टेडियम तक प्रभातफेरी होगी। मुख्यमंत्री की उपस्थिति में पटना में होने वाले कार्यक्रम का जिला मुख्यालय, अनुमंडल एवं प्रखंड मुख्यालय, सभी पीएचसी आदि में लाइव प्रसारण किया जाएगा। एसआईटी सीतामढ़ी में भी मतगणना कार्य मे लगे सभी कर्मियों, अधिकारियों को भी नशामुक्ति को लेकर शपथ दिलाई जाएगी। फलैक्स, नुक्कड़ नाटक आदि के माध्यम से भी नशे के कुप्रभाव एवं स्वास्थ्य पर होने वाले कुपरिणामों की जानकारी दी जाएगी। जिलाधिकारी ने कहा कि संपूर्ण जिले में एक तरफ पूरी सख्ती के साथ प्रभावकारी रूप से नशाबंदी कानून को लागू किया जाएगा। दूसरी तरफ व्यापक जागरूकता के द्वारा लोगों को जागरूक भी किया जाएगा। नशा मुक्त बिहार बनाने एवं नशे के खिलाफ आयोजित वाद-विवाद एवं निबंध लेखन प्रतियोगिता में विजेता छात्रों को शुक्रवार को ही समाहरणालय स्थित परिचर्चा भवन में पुरस्कृत भी किया जाएगा।

Edited By: Jagran