सीतामढ़ी [जेएनएन]। बिहार ने झारखंड का रिकॉर्ड इस मामले में तोड़ डाला है और अब सीतामढ़ी का नाम इस वजह से लिम्का बुक अॉफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज हो सकता है। एक दिन में गड्ढा खोदो शौचालय बनाओ' अभियान के तहत सोमवार को लोगों ने 1.10 लाख गड्ढे खोदकर झारखंड को पीछे छोड़ दिया है।

बता दें कि झारखंड के सिमडेगा जिले ने एक दिन में 65 हजार गड्ढे खोदकर कर लिम्का बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड में नाम दर्ज कराया था। लेकिन, जिले को खुले में शौच से मुक्ति दिलाने की दिशा में जिलाधिकारी डॉ. रंजीत कुमार सिंह के नेतृत्व में की गई इस पहल ने एक दिन में गड्ढ़ा खोदे जाने के सभी रिकार्ड तोड़ दिए। 

इससे पहले तत्कालीन डीएम राजीव रौशन के नेतृत्व में 21 अप्रैल 2016 को एक दिन में 2168 सोख्ता तैयार कर सीतामढ़ी ने लिम्का बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड में नाम दर्ज कराया था। सोमवार को डीएम के साथ सांसद, विधायक, पंचायत प्रतिनिधि, अधिकारी सभी अपने चयनित क्षेत्रों में शौचालय निर्माण के लिए सुबह 9 बजे से गड्ढ़े खोदने का काम शुरू किए। भीषण गर्मी के बावजूद अभियान जारी रहा। 

बताया गया कि मंगलवार से वहां शौचालय निर्माण शुरू किया जाएगा और 15 जून को सीतामढ़ी सूबे का पहला ओडीएफ जिला घोषित होगा।

इस संबंध में जिलाधिकारी डॉ.रंजीत सिंह ने बताया कि 24 पंचायतों के वैसे घरों में शौचालय निर्माण को लेकर 'गड्ढ़ा खोदो शौचालय बनाओ' अभियान शुरू किया गया जहां शौचालय नहीं है। एक दिन में 1.10 लाख गड्ढे तैयार किए गए। यह बड़ी उपलब्धि है। 

इस उपलब्धि को गिनीज बुक एवं लिम्का बुक ऑफ रिकार्ड के लिए भेजा गया है। पूर्व से जिले की 249 पंचायतें ओडीएफ घोषित हैं। इन पंचायतों में शौचालय निर्माण के बाद 15 जून को सीतामढ़ी ओडीएफ जिला घोषित हो जाएगा। 

झारखंड के सिमडेगा जिले का टूटेगा रिकॉर्ड

शौचालय बनाने के लिए एक दिन में गढ्ढा खोदने का विश्व रिकॉर्ड फिलहाल झारखंड के सिमेडगा जिले के नाम है, जहां 65 हजार गड्ढे एक दिन में खोदे गए थे। इस रिकॉर्ड को सीतामढ़ी जिले में सोमवार को ब्रेक करते हुए 1.10 लाख गढ्ढे खोदे गए। ओडीएफ को लेकर अन्य कई विशेष अभियान जिले में चलाए जा रहे हैं।

 

Posted By: Kajal Kumari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप