सुरसंड (सीतामढ़ी)। भारत-नेपाल सीमा पर भिठ्ठामोड़ चेक पोस्ट पर सोमवार को नेपाल से भारत में घुसपैठ के दौरान अपने दो मददगारों के साथ पकड़ी गई पाकिस्तानी युवती को कड़ी पूछताछ के बाद मंगलवार को न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया। न्यायिक दंडाधिकारी प्रथम श्रेणी पुपरी किशोर गौरव की अदालत ने तीनों को 23 अगस्त तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया है। 24 साल की यह पाकिस्तानी युवती फैसलाबाद में बड़े घराने से ताल्लुक रखती है। यह जब हिरासत में ली गई तब इसके पास से महंगी ढेर सारी श्रृंगार प्रसाधन सामग्री, आइफोन व सैमसंग मोबाइल के साथ पाकिस्तानी, नेपाली व अरबिया करेंसी (सऊदी रियाल) बरामद हुई। पाकिस्तानी युवती के साथ गिरफ्तार किया गया नेपाली युवक जिसका नाम जीवन कुमार साह (25 वर्ष) पिता मोहन साह है, वह कल्याणपुर नगरपालिका-5, जिला सिरहा का रहने वाला है तथा दूसरा सैयद महमूद (36 वर्ष) पिता सैयद बाबा जानी, 19-5-28/10 /ए, किसान बाग बहादुरपुरम, जिला हैदराबाद, तेलंगाना का निवासी है। भिट्ठामोड़ ओपी प्रभारी प्रेमजीत सिंह ने बताया कि पाकिस्तानी युवती के पास से भारत में प्रवेश के लिए अधिकृत दस्तावेज प्राप्त नहीं हुए हैं। दोनों व्यक्ति योजनाबद्ध तरीके से गैर कानूनी ढंग से कागजी जालसाजी करके पाकिस्तानी युवती खादिजा नूर को नेपाल के रास्ते भिट्ठामोड़ चेक पोस्ट से भारत में घुसपैठ कराने की कोशिश की।

फेसबुक फ्रेंड मो. उस्मानी के इशारे पर पाकिस्तानी युवती दुबई से नेपाल के लिए पकड़ी फ्लाईट

एसएसबी के कंपनी कमांडेंट सह इंस्पेक्टर विशन दास जिन्होंने तीनों को अपनी हिरासत में लिया है उनके अनुसार, खादिजा नूर अपने होम सिटी फैसलाबाद से पांच अगस्त को दुबई गई। वहां से फ्लाइट से भारतीय समयानुसार, 8:45 बजे काठमांडू एयरपोर्ट पर उतरी। सउदी अरब में रह रहे मो. उस्मान ने अपने एक दोस्त अनिल कुमार के जरिये खादिजा नूर को मदद कर नेपाल में जनकपुरधाम तक पहुंचाया। जनकपुरधाम में पुन: उस्मान के दोस्त सुजीत कुमार साह जो सउदी अरब में उस्मान के साथ ही रहता है उसके भाई जीवन कुमार साह से खादिजा को मिलवाया। जीवन कुमार साह ने खादिजा नूर को अपने कागजात पर एक नेपाली सिम खरीदकर दिया। उसके बाद दोनों भारत के लिए चल दिए। भिट्ठामोड़ में मो. उस्मान के भाई सैयद महमूद ने अपनी बहन आरजू भागरिया के नाम पर खादिजा के लिए फर्जी आधार कार्ड बनवा दिया। इस प्रकार फर्जी आधार कार्ड के जरिये खादिजा नूर को हैदराबाद पहुंचाना था। खादिजा नूर हैदराबाद क्यों और किसके पास जाने वाली थी इस बारे में पुलिस ने तो अपनी एफआइआर में कुछ नहीं बताया है, लेकिन पूरे मामले में तफ्तीश से इस बात की संभावना लग रही है कि यह प्रेम-प्रसंग से जुड़ा मामला है। सउदी अरब में रह रहा खादिजा नूर को जानने वाला मो. उस्मान उसका फेसबुक फ्रेंड है जिसके चक्कर में पड़कर वह पाकिस्तान से हिदुस्तान के लिए निकल पड़ी।

कैसे हुई तीनों की गिरफ्तारी, जानिए पूरा मामला

इस केस में प्राथमिकी दर्ज कराने वाले एसएसबी 51वीं बटालियन के निरीक्षक/ सामान्य विशन दास के अनुसार, सोवमार दोपहर एक बजे बाह्य सीमा चौकी भिठ्ठामोड़ में वह अपने 11 बलकर्मियों के साथ भारत-नेपाल सीमा, स्तंभ संख्या 301 से लगभग 10 मीटर भारत की तरफ ड्यूटी पर मौजूद थे। जिसमें दो महिला जवान भी चेकपोस्ट पर ड्यूटी पर थी। चेकपोस्ट ड्यूटी के दौरान नेपाल की तरफ से दो व्यक्ति एक महिला व एक पुरुष पैदल आ रहे थे। युवती से पूछताछ के लिए आन ड्यूटी महिलाकर्मी ने रोका तब वह अपनी पहचान स्पष्ट नहीं बता पा रही थी और देखने से प्रतीत हो रहा था कि वह किसी अन्य देश की नागरिक हो सकती है। संदेह होने पर जब दस्तावेज की जांच की गई तो तब पता चला कि उसकी फोटो आधार कार्ड सं. 646899362534 की फोटो से नहीं मिल रही है। उक्त आधार कार्ड फर्जी बनाया गया है। गहन पूछताछ करने पर उसने बताया कि उसका नाम खादिजा नूर है। उसके पास से पासपोर्ट संख्या जीसी 0000881( इस्लामिक रिपब्लिक ऑफ पाकिस्तान ), पिता मो. इशाक, हाउस नं.13, स्ट्रीट-सी, ब्लॉक नंबर 10, नेइबेरहुड मदीना टाउन, सिटी फैसलाबाद, तहसील फैसलाबाद सिटी, जिला- फैसलाबाद, पाकिस्तान की वह नागरिक है। और उसके साथ वाले व्यक्ति का नाम जीवन कुमार साह पिता मोहन साह, गांव - कल्याणपुर नगरपालिका 5, जिला-सिरहा, नेपाल का रहने वाला है। तीसरा पकड़ा गया व्यक्ति जिसे जीवन कुमार साह फोन कर रहा था उसे ट्रेस कर पकड़ लिया गया। उसका नाम सैयद महमूद पिता सैयद बाबा जानी, 19-5-28/10 /ए, किसान बाग बहादुरपुरम, जिला हैदराबाद, तेलंगाना का निवासी है। वह इस युवती का नाम खादिजा नूर को रिसीव करने के लिए आया था। सैयद महमूद पिता सैयद बाबा जानी के द्वारा उक्त पाकिस्तानी युवती के

लिए नाम आरजू बघादिया पिता सलीम बघादिया पता रोज बी 205 गार्डन हाउसिग

सोसाइटी नियर चेनपलानेंट कोम्पाली केवी रंगा रेडी तेलंगाना-500014 के नाम से

फर्जी आधार कार्ड (संख्या 646899362534) है। इस प्रकार इन तीनों की भूमिका संदिग्ध लगी। युवती के पास से बरामद सामान

लोरिच शैम्पू, डव स्कीब मॉश्चराइजर, बाथ स्पांज, आइलाइनर, छह लिपिस्टिक, हेयर ड्रायर,

शापनर,बाल सुलझानेवाला, सौंदर्य प्रसाधन स्पंज, शॉवर कैप, सैनिटरी पैड, फेसवाश, वैसलीन,

सिल्क फीलहेयर ब्लॉकर, ऑक्सलीन धागा, सीजर, मेकअप किट, निविया सन क्रीम, बायोएक्वा, ब्लैक करेंट विटामिन, सेवनाल प्रोफेशनल मेकअप, टूथ पेस्ट एंड टूथ ब्रश, मस्करा, डव शोप

फेसवाश, फेसमास्क, हैंडबैग, मैनिक्योर सेट, हाथ घड़ी, गिफ्ट, फुटवेयर, मोबाइल चार्जर, आई लेंस, आई ड्रापर, शो लाइट, लोरिच आर्गन आयल, हेयर क्लिप, भटभटेनि, कंघी, रिवाज लोशन

बाथ, चोको पाइ, किट कैट, बुर्खा, स्टाल, शूट, टावल, ईयर्स ब‌र्ड्स, आइफोन 65 एंड सैमसंग ग्लैक्सी ए03 सिम के साथ, मोबाइल चार्जिंग पावर बैंक, कोविड सर्टिफिकेट।

पाकिस्तानी युवती खादिजा नूर के पास से प्राप्त सामान कोविड सर्टिफिकेट, यूनिवर्सिटी कार्ड, राष्ट्रीय पहचान पत्र, जाति प्रमाण-पत्र, पासपोर्ट (इस्लामिक रिपब्लिक आफ पाकिस्तान), जन्म प्रमाण-पत्र, सैलून प्रमाणपत्र, चरित्र प्रमाण-पत्र, सेकेंड्री स्कूल सर्टिफिकेट, आधार कार्ड, इंटरमीडिएट पार्ट वन एंड टू, वार्षिक परीक्षा, इंटर्नशिप लेटर, रेकी का मन श्लोक प्रमाण पत्र, नोटबुक, फ्लाइट टिकट, फोटो, नेपाली करेंसी 1000 के 16 नोट यानी 16000, पांच सौ के छह यानी 3000, 100 के 7 यानी सात सौ, 50 के दो यानी 100, 20 का एक, 10 का एक, नेपाली सिक्के दो रुपये के दो यानी चार रुपये, एक रुपये के दो यानी दो रुपये, अरबिया करेंसी 10 के एक, अरबिया सिक्के एक, पाकिस्तानी करेंसी 1000 के दो यानी दो हजार कुल 21844 रुपये।

हैदराबादी युवक सैयद महम्मूद के पास से बरामद पैंट-शर्ट एक जोड़ा, जैकेट एक, एक शर्ट, एक हाफ पैंट, एक मोबाइल चार्जर, एक ईयर फोन, एक बेल्ट, हाथ घड़ी, टूथ ब्रश, हैंड बैग, आइफोन मोबाइल आइडिया सिम के साथ, वालेट, आधार कार्ड, ड्राइविग लाइसेंस, पैन कार्ड, मोटरसाइकिल आरसी, एटीएम कार्ड, फोटो, नेपाली करेंसी 1000 के तीन, नेपाली सिक्के पांच के दो, भारतीय करेंसी पांच सौ के 41, भारतीय करेंसी 10 के सात कुल 23580 रुपये।

नेपाली युवक जीवन साह के पास से बरामद चीजें

हाथ घड़ी, बेल्ट, सिल्वर चैन पैंडल के साथ, लेनेवो मोबाइल व इन फोकस मोबाइल फोन, सिमनसेल दो पीस, वालेट, मोबाइल चार्जर, वोटर आइकार्ड, एटीएम कार्ड, नेपाली करेंसी 1000 के एक, 100 के एक, 50 के एक, 20 के दो, 10 का एक, पांच का एक, भारतीय करेंसी 20 के चार कुल 1295 रुपये बरामद हुए।

Edited By: Jagran