सीतामढ़ी। बिहार की सीमा सील किए जाने के बावजूद मंगलवार को एक दिन में 1573 लोग बाहर से आए। 639 लोगों की गिनती रुन्नीसैदपुर टॉल प्लाजा के पास बने चेक पोस्ट पर की गई। नेपाल से आने वाले सौ से अधिक कामगारों को एसएसबी के जवानों ने बॉर्डर पर रोक दिया। उधर, दिल्ली व लखनऊ में काम कर रहे 17 नेपाली नागरिक अपने देश लौट रहे थे, जिन्हें कन्हमां में एसएसबी ने रोक लिया। वही दिल्ली से आने वाले नेपाल के एक दर्जन मजदूरों को सोनबरसा में होम क्वारंटाइन किया गया। भागलपुर से भी बड़ी संख्या में मजदूर व राजमिस्त्री जिले में पहुंचे। बाहर से अभी तक तकरीबन 60 हजार लोग आ चुके हैं। उनमें 46,679 लोगों को उनके घर भेजा गया। 8321 को क्वारंटाइन में रखा गया है। 42 लोग 18 मार्च से अभी तक आए विदेश से

शक के आधार पर 16 लोगों के सैंपल कोरोना जांच के लिए लिए गए। हालांकि, इनमें से चार की रिपोर्ट पहले ही निगेटिव आ चुकी है। 12 के सैंपल कलेक्शन कर सोमवार को ही सदर अस्पताल से आरएमआरआइ हॉस्पीटल पटना भेजा गया है। कोरोना वायरस से बचाव के लिए नोड अफसर बहाल डॉ. आरके यादव ने कहा कि आज सदर अस्पताल से एक भी सैंपल जांच के लिए नहीं भेजा जा सका। सोमवार को जिन लोगों के सैंपल कलेक्शन हुए वे सभी वैसे लोग हैं, जो 18 मार्च के बाद विदेश से आए हैं। उन लोगों में दो सुरसंड, एक बथनाहा, एक बेलसंड, एक रीगा, तीन डुमरा के अलावा सुप्पी व नानपुर के भी शामिल हैं। ये सभी अभी होम क्वारंटाइन में हैं। उनका इंट्रोगेशन पीरियड अभी चालू है। उधर, डीएम अभिलाषा कुमारी शर्मा ने कहा कि 18 के बाद विदेश से आने वालों की संख्या 42 है। उन सबपर नजर रखी जा रही है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस