मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

सीतामढ़ी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई वाली केंद्र की एनडीए सरकार ने अपने सौ दिन के कार्यकाल में कई ऐसे फैसले लिए हैं जो देश के इतिहास में स्वर्णाक्षरों में दर्ज हो गए हैं। इनमें तीन तलाक बिल का पास कराना, कश्मीर से धारा 370 और 35 ए समाप्त कराना, कश्मीर को केंद्र शासित प्रदेश बनाना और लद्दाख को नए प्रदेश के रूप में मान्यता देना शामिल है। इस दौरान पीएम ने कई देशों की यात्रा कर भारत को विश्व शक्ति के रूप में स्थापित करने की मजबूत पहल की।

बोले लोग :::::

रामजी सिंह, अधिवक्ता : एनडीए टू की सरकार का सौ दिन का कार्यकाल आजादी के 72 वर्षों पर प्रभाव डालता है। इसमें कानूनी व्यवधान को समाप्त कर नया प्रावधान लाया गया है। विकास को गति देने के लिए कई कार्य किए गए हैं। कश्मीर से धारा 370 व 35 ए हटाना ऐतिहासिक उपलब्धि है।

---------------------

प्रो. शालिनी सिंह : मोदी सरकार के नेतृत्व में भारत विश्व में महाशक्ति बनने की राह पर है। देश का विकास हो रहा है। विज्ञान और तकनीक के क्षेत्र में हम आगे बढ़ रहे हैं। धारा 370 और धारा 35 ए तथा तीन तलाक समाप्त करने वाला सरकार का फैसला ऐतिहासिक रहा।

------------------------

डॉ. सुनीता : मोदी सरकार के सौ दिन के कार्यकाल में स्वास्थ्य सेवाओं में सुधार आया है। प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना आयुष्मान भारत को गति दी जा रही है। गरीबों को इसका लाभ मिलने लगा है।

----------------------------

राणा रणधीर सिंह चौहान, जिलाध्यक्ष, जदयू : मोदी सरकार की दूसरी पाली में भी विकास की गति सराहनीय है। कई लंबित मामलों का गति के साथ निष्पादित किया जा रहा है, वहीं विभिन्न देशों से भी सरकार द्वारा द्विपक्षीय वार्ता में सकारात्मक पहल की जारी है।

-----------------------

सुबोध कुमार सिंह, जिलाध्यक्ष, भाजपा : मोदी सरकार के सौ दिन के कार्यकाल में उदे्दश्यों की पूर्ति की गई है। कई ऐतिहासिक फैसले लिए गए हैं। सिद्धांत और घोषणा पत्र के अनुसार कार्य को मूर्त रूप देना शुरू कर दिया है।

-----------------------------

प्रो. आनंद किशोर : मोदी सरकार के सौ दिनों पर नजर डाला जाए तो सरकार के कदम आर्थिक मुद्दे पर लड़खड़ाते नजर आ रहे हैं। उपभोक्ता की मांग तथा निवेश दोनों का आंकड़ा गिर रहा है। जो सरकार को सचेत करनेवाली है।

----------

प्रो. तनश्याम नारायण सिंह : संपूर्ण विश्व मंदी की चपेट में है, जिसका प्रभाव भारतीय अर्थव्यवस्था पर पड़ रहा है। देश के घरेलू बाजार भी भादो से लेकर पितृपक्ष तक कुछ मंदी गति में रहता है। सरकार द्वारा इस पर काबू के लिए प्रभावी प्रयास किए गए हैं।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप