सीतामढ़ी। जिले में चल रहे महादलित अल्पसंख्यक अतिपिछड़ा वर्ग अक्षर आंचल योजना के तहत चल रहे साक्षरता केन्द्रों का सर्वे अब नए फार्मेट पर होगा। ये बातें एसआरजी संजय कुमार मधु ने शनिवार को डुमरा बीआरसी पर आयोजित समीक्षात्मक बैठक की अध्यक्षता करते हुए कही। उन्होंने उपस्थित केआरपी व स्वयंसेवकों को बताया कि जनशिक्षा निदेशालय के निर्देश पर टोला सेवकों एवं तालिमी मरकज के स्वयंसेवकों को अपने विद्यालय के पोषक क्षेत्र का सर्वे करना है। जिसका उद्देश्य बेसिक डाटा एकत्र करना है। इसके लिए यूनिसेफ द्वारा तैयार नए प्रपत्र का उपयोग किया जाना है। इस प्रपत्र को भरने से पूर्व स्वयंसेवकों को प्रखंड स्तर पर रविवार व सोमवार को केआरपी द्वारा प्रशिक्षण दिया जाना है। मंगलवार से टोलों का सर्वे किया जाना है। उन्होंने सर्वे प्रपत्र पर चर्चा करते हुए कहा कि प्रपत्र को पूर्णत: पढ़ व समझ कर ही भरें। इसे भरने से पूर्व रफ कर लें। कोई भी कॉलम खाली नही छोड़ना हैं और ना हीं रोमन संख्या का उपयोग स्वयंसेवकों को करना हैं। सर्वे विद्यालय के पोषक क्षेत्र अंर्तगत पड़ने वाले दलित, महादलित अल्पसंख्यक अतिपिछड़ा वर्ग के टोलों के परिवारों का ही होना हैं। इस काम में रविवार को सभी केआरपी अपने आवंटित प्रखंड के एक परिवार का सर्वे अपने स्वयंसेवको के साथ कराकर जिला को प्रपत्र उपलब्ध कराएंगे। इसमें किसी तरह की कोताही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। मौके पर राज्य द्वारा प्रशिक्षित टीओटी संजय कुमार ¨सह, नवीन कुमार, लालबाबू राय, सुधीर कुमार, शिवशंकर भगत, नेक मोहम्मद, सैदर, शैल देवी, रीता देवी, हेमलता कंचन एवं मंदाकिनी कुमारी समेत सभी केआरपी मौजूद थे।

Posted By: Jagran