जासं, शेखपुरा: गुरुवार को जिला में कोरोना से बचाव के टीकाकरण में मेगा ड्रा के तीन विजेताओं को पुरस्कार प्रदान किया गया। डीएम इनायत खान ने इन तीनों विजेताओं को कलेक्ट्रेट के मंथन सभागार में पुरस्कार के रूप में 31 इंच का एलईडी टीवी सौंपा। मेगा ड्रा के विजेताओं में मुरारपुर की रिकू देवी,पानापुर की कांति देवी तथा भदौस के राहुल कुमार शामिल हैं। मेगा ड्रा और पुरस्कार का आयोजन केयर इंडिया ने किया। यह संस्था जिला में स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर करने के लिए अपना सपोर्ट जिला प्रशासन को दे रहा है। पुरस्कार वितरण में डीसीसी सत्येंद्र कुमार सिंह, एडीएम सत्यप्रकाश सहरमा, सिविल सर्जन डॉ पृथ्वीराज, डीपीएम श्याम कुमार निर्मल तथा केयर इंडिया के डीएम अभिनव कुमार भी शामिल हुए। बता दें टीका का पहला डोज लेने के 84 दिन के बाद तुरंत दूसरा डोज लेने के लिए लोगों को प्रोत्साहित करने के वास्ते केयर इंडिया ने ड्रा का आयोजन किया। इसके पहले लगातार 5 सप्ताह तक लक्की ड्रा का आयोजन करके डेढ़ सौ से अधिक लोगों को पुरस्कृत किया जा चुका है। गुरुवार को मेगा ड्रा के विजेताओं को पुरस्कार देते हुए डीएम ने इन लोगों से टीका अभियान में स्वयं को रोल माडल की तरह भूमिका निभाने की अपील की। कहा आप लोग अपने घर-परिवार तथा आस-पड़ोस में लोगों को समय पर टीका लगवाने के लिए प्रेरित करें। जिला को पूर्ण टीकाकृत करने के लिए डीएम ने सभी लोगों से सहयोग मांगा।

---

अल्ट्रासाउंड जांच के लिए 50 रुपया शुल्क निर्धारित जागरण संवाददाता, शेखपुरा :

सदर अस्पताल शेखपुरा में लोगों को अल्ट्रासाउंड जांच की सुविधा नियमित रूप से उपलब्ध हो, इसके लिए 50 रुपया जांच शुल्क निर्धारित किया गया है। सिविल सर्जन की अध्यक्षता में रोगी कल्याण समिति की बैठक में इसका निर्णय हुआ। अब इस निर्णय पर सिविल सर्जन और अस्पताल उपाधीक्षक जनप्रतिनिधियों तथा प्रबुद्ध लोगों से उनकी राय लेंगे। सभी लोगों की सहमति मिलने के बाद इसे लागू किया जाएगा। इसी कड़ी में गुरुवार को पत्रकारों के साथ औपचारिक बैठक करके इस मुद्दे पर सहमति ली गई। सिविल सर्जन डॉ पृथ्वीराज ने बताया इस जांच शुल्क से 60 साल से ऊपर की आयु के वरिष्ठ नागरिकों,सदर अस्पताल में संस्थागत प्रसव करने वाली महिला। आयुष्मान कार्ड धारकों को छूट दिये जाने का प्रस्ताव है। दूसरे जांच कराने वाले भी वास्तव में लाचार और निर्धन हैं तो उनसे भी जांच शुल्क नहीं लिया जाएगा। बाजार में इसी जांच के लिए 7 सौ रुपया देना पड़ता है। जांच शुल्क से आय को जांच केंद्र के सहायक के मनदेय तथा जांच में खर्च होने वाले कागज,इंक व जांच केंद्र के रख-रखाव पर व्यय किया जाएगा।

Edited By: Jagran