जागरण संवाददाता, शेखपुरा:

जांच के नाम पर कथित रूप से रुपये वसूलने के आरोप में सदर अस्पताल शेखपुरा के अल्ट्रासाउंड जांच केंद्र पर गुरुवार को लोगों ने जमकर हंगामा किया। हंगामे की वजह आधा घंटे तक अस्पताल में अफरातफरी मची रही। लोगों का आक्रोश देखकर अस्पताल के कई कर्मी बाहर चले गए। हंगामा कर रही महिलाओं ने बताया कि जांच के नाम पर यहां पर तैनात कर्मी मरीजों से 50 रुपया वसूल करता है। रुपये नहीं देने पर जांच का काम अटकाया जाता है। गुरुवार को लोग नौ बजे सुबह से ही जांच कराने के लिए केंद्र पर बैठे थे, मगर जांच करने वाला कर्मी केंद्र खोलकर भागा हुआ था। कर्मी 3 घंटे बाद 12 बजे आया और लोगों से 50 रुपया जमा करने को कहा। रुपये की मांग करते ही लोगों का गुस्सा फूट पड़ा और अस्पताल के भीतर ही हंगामा करने लगे। लोगों ने शिकायत की अल्ट्रासाउंड जांच केंद्र प्रतिदिन खुलता भी नही है, जब जांच करने वाले कर्मी से इस शिकायत के बारे में जानकारी लेने का प्रयास किया तो कुछ भी बताने में असमर्थता जाहिर की। सिविल सर्जन का मोबाइल कनेक्ट नहीं हो पाया और अस्पताल प्रबंधक धीरज कुमार ने बताया हम छुट्टी पर हैं।

वेतन नहीं मिलने से नाराज सदर अस्पताल के कर्मी करेंगे आंदोलन

जागरण संवाददाता, शेखपुरा:

तीन माह से वेतन नहीं मिलने से नाराज

सदर अस्पताल शेखपुरा के कर्मियों ने आंदोलन करने का निर्णय लिया है। गुरुवार को सदर अस्पताल में बैठक करके कर्मियों ने सरकार को वेतन भुगतान के लिए एक सप्ताह का अल्टीमेटम दिया है। बैठक की अध्यक्षता बिहार चिकित्सा-जन स्वास्थ्य कर्मचारी संघ की सदर अस्पताल शेखपुरा शाखा की अध्यक्ष धर्मशीला कुमारी ने की। बैठक में संघ के जिला मंत्री अनील कुमार के साथ नित्यानंद,रामाधर राम,रमाकांत पांडे,अजय प्रसाद,अशोक प्रसाद,दिलशाद अहमद,अनीता कुमारी,विभा कुमारी,उषा कुमारी सहित कई नर्स,पारा मेडिकल स्टाफ,लिपिक व दूसरे कर्मी भी शामिल हुए। अध्यक्ष धर्मशीला ने बताया पूर्णकालिक सिविल सर्जन के नहीं रहने और प्रभारी सिविल सर्जन को वित्तीय अधिकार नहीं मिलने की वजह से सदर अस्पताल,सिविल सर्जन कार्यालय तथा जिला स्वास्थ्य समिति के पदाधिकारियों-कर्मियों को तीन महीने से वेतन नहीं मिला है। बिना वेतन के ही दशहरा और दीपावली-छठ कट गया। इस तकनीकी समस्या की वजह से लगभग 3 सौ कर्मियों को वेतन नहीं मिल रहा है। इस समस्या को लेकर संघ ने प्रधान सचिव को पहले ही ज्ञापन दिया है।

अगर एक सप्ताह के भीतर वेतन भुगतान नहीं हुआ तो कर्मी सामूहिक आंदोलन करेंगे।

Edited By: Jagran