शिवहर। बाल विवाह एवं दहे•ा उन्मूलन को लक्ष्य कर एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन गांधी नगर भवन में किया गया। महिला विकास निगम एवं समाज कल्याण विभाग बिहार सरकार के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित कार्यक्रम का आयोजन अनुमंडल पदाधिकारी आफाक अहमद के संयोजकत्व में किया गया। उद्घाटन एडीएम शंभूशरण, एसडीओ आफाक अहमद, सुकन्या क्लब एवं गांव विकास मंच अध्यक्ष नागेन्द्र प्रसाद ¨सह एवं पूर्व जिप सदस्य अजबलाल चौधरी ने संयुक्त रूप से किया। इस दौरान एडीएम शंभूशरण ने कहा कि बाल विवाह एवं दहेज प्रथा समाज के लिए किसी अभिशाप से कम नहीं है। जो माता- पिता अपने कलेजे के टुकड़े को सहज सौंप रहा हो उससे दहेज की मांग करना अमानवीयता है। इस कुरीतियों का अंत करना बेहद आवश्यक है। वहीं कार्यक्रम का संचालन कर रहे एसडीओ आफाक अहमद ने कहा कि उक्त प्रथाएं समाज के विकास में सबसे बड़ी बाधा है। मौजूद बच्चियों को आगाह किया कि आप लोगों द्वारा इस परंपरा का पुरजोर विरोध होना चाहिए। वहीं बाल विवाह एवं दहेज लेने वालों के यहां शादी ही नहीं की जाए तब जाकर इस त्याज्य परंपरा का अंत होगा। वहीं सुकन्या क्लब अध्यक्ष नागेन्द्र प्रसाद ¨सह ने बच्चियों की हौसला-अफजाई करते हुए कहा कि अपलोड चाहें तो समाज का यह कोढ़ सदा के लिए मिट जाएगा। दहेजलोभियों के यहां शादी से इंकार एवं बाल विवाह से सीधे इंकार कर इस प्रथा का समूल नाश संभव है। जबकि अजबलाल चौधरी ने कहा कि उक्त दोनों ही प्रथाएं समाज को खोखला कर रहीं हैं जब तक इसे नहीं खत्म किया जाएगा समाज का सर्वांगीण विकास संभव नहीं है। मौके पर पं. वेदप्रकाश शास्त्री, जामा मस्जिद शिवहर के इमाम मो. इस्लाम कादरी, ईसाई धर्मावलंबी ¨पटू फ्रेड्रिक, हाफिज मो. शमशाद रजा, अवधेश मिश्रा, शिक्षक नदीमुज्जमा शिक्षिक डॉ. ज्योति कुमार सहित विद्यालयों की छात्राएं मौजूद थीं। कार्यक्रम के उत्तरा‌र्द्ध में बच्चियों को सम्मानित किया गया।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप