शिवहर। मंगलवार का दिन। समय सुबह करीब दस बजे। बच्चे स्कूल को पहुंचे तो साहेब अपने दफ्तर। किसान भी अपनी दिनचर्या में लगे ही थे एकाएक आकाश में बादल घिर आए। जोर से गर्जना होने लगी और फिर बिन बारिश ओले की बरसात प्रारंभ हो गई। जो जहां था वहीं से सिर छुपाने को पास के घरों की ओर भाग खड़ा हुआ। सभी प्रकृति के अनोखे प्रकोप को देख अचंभित हो गए। घर के आगे, सड़कों पर, खेल खलिहानों में ओले की सफेद चादर बिछ गई। ऐसा लगा मानो जिला बर्फीले कश्मीर में तब्दील हो गया है। - फसलों की हुई भारी क्षति ओलावृष्टि से सर्वाधिक परेशानी उन किसानों को हुई है जिनके सपने अभी खेतों में फसल के रुप में तैयार हैं। अभी गेहूं की कटनी की योजना बना रहे किसानों पर यह प्राकृतिक प्रकोप वज्रपात के समान है। ओलावृष्टि से गेहूं की न सिर्फ बालियां एवं दाने खेतों में बिखर गए हैं बल्कि गेहूं के पौधे सपाट धराशायी हो गए हैं जिन्हें काटने में काफी दिक्कतें पेश आएंगी। उन किसानों के समक्ष संकट उत्पन्न हो गया है जो कर्ज लेकर फसल लगाए थे। अब खेतों से उम्मीद के अनुसार फसल खलिहान में पहुंचने की उम्मीद नहीं है। ऐसे में लिए गए कर्ज को चुकता करना काफी मुश्किल होगा। - बागवानियों को भी पहुंचा नुकसान मंगलवार को हुए ओला से नकदी एवं मौसमी फसलों मसलन आम एवं लीची को भारी नुकसान पहुंचा है। आम के टिकोले या तो झर गए हैं या फिर चोटिल हो गए है।ं इससे उत्पादन पर सीधा असर पड़ेगा। वहीं खेतों में लगी सब्जियों की फसलें भी प्रभावित हुई हैं। सारे पत्ते झर गए हैं जिससे सभी पोषण नहीं होने के कारण फलियां निकलने में दिक्कत होगी। - बच्चों ने की खूब मस्ती इस प्राकृतिक आपदा से भले ही जन सामान्य की चिताएं बढ़ गई। लेकिन बच्चों ने इस ओलावृष्टि का खूब मजा लिया। एक ओर जहां अभिभावक घर से बाहर निकलने को रोकते रहे। वहीं बच्चे हेठी दिखाते हुए ओला जमा करते दिखे। जिसे हाथों में रखकर रोमांचित होते दिखे। तो कहीं बाल मंडलियों ने ओलों को इकट्ठा कर ढ़ेर लगा दिया। - तस्वीरों का हुआ आदान प्रदान ओलावृष्टि के दौरान बुजुर्ग एवं नौजवानों को फोटो खींचने में भी आनंदित होते देखा गया। वहीं फेसबुक व्हाट्सएप के माध्यम से एक दूसरे को भेजकर खोज खबर लेते रहे। - बीएसएनएल सेवा हुई बाधित जैसे ही हवा के झोंके की शुरुआत हुई बिजली काट दी गई। वहीं इस प्राकृतिक आपदा के बीच बीएसएनएल सेवा ने भी जबाब दे दिया। नतीजतन अधिकांश लोगों का मोबाइल संपर्क भंग हो गया। हाल जानने को उपभोक्ताओं में छटपटाहट देखी।

Posted By: Jagran