शिवहर। तरियानी छपरा बाजार स्थित गांधी स्मारक स्थल पर वार्ड 14 एवं 15 के बच्चों ने सरकारी स्कूलों में गिरती शिक्षा व्यवस्था के प्रति नाराजगी जाहिर करते हुए मौन प्रदर्शन किया। इस दौरान वार्ड सदस्य नथुनी राम एवं रामलाल पासवान सहित अन्य लोगों ने बताया कि वर्ष 2006 में यहाँ नवसृजित विद्यालय स्थापित किया गया। जिसमें प्रधानाध्यापक प्रभाकर झा सहित 4 सहायक शिक्षकों ने एक झोपड़ीनुमा में पठन पाठन शुरू किया। जहां बच्चे पढ़ने भी लगे। किन्तु वर्तमान में उक्त विद्यालय को लगभग 4 किमी दूर मध्य विद्यालय कन्या तरियानी छपरा से जोड़ दिया गया है। नतीजतन बच्चों का स्कूल जाना बंद सा हो गया है। वहीं प्रमुख प्रतिनिधि पंकज कुमार ¨सह के समझाने बुझाने पर स्कूल जाना शुरू तो किया है लेकिन दूरी ज्यादा होने से अधिसंख्य बच्चे अभी भी स्कूल से वंचित हैं। स्थानीय लोगों का कहना है कि शिक्षा समाज की पहली जरूरत एवं विकास का आवश्यक तत्व है। जबकि स्कूल का स्थान परिवर्तन होने से करीब 1500 आबादी वाला यह गांव शिक्षा जैसी मूलभूत सुविधा से मानो वंचित है। बच्चों को शिक्षा का अधिकार मिलना लाजिमी है। अब तो गांववाले इसे लेकर आंदोलन करने की तैयारी में हैं।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस