मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

शिवहर। विभागीय निर्देश के आलोक में मंडल कारा के कैदियों को योग प्राणायाम का प्रशिक्षण दिया जा रहा है। काराधीक्षक सुजीत कुमार झा के नेतृत्व में कारा के अंत: परिसर में सुबह योग कक्षा लगाई जा रही है। जहां पतंजलि योग समिति सह भारत स्वाभिमान न्यास के जिला प्रभारी सुभाष चन्द्र गुप्त एवं योग शिक्षक पिटू कुमार द्वारा विभिन्न योग, व्यायाम एवं प्राणायाम की सूक्ष्म विधियां बतलाई जा रही हैं। शिविर के तीसरे दिन सभी कैदियों को पेट रोग एवं डायबिटीज से छुटकारा दिलाने वाले आसन का अभ्यास कराया। वहीं जोड़ों के दर्द से मुक्ति के भी उपाय सुझाए गए। सुभाषचंद्र गुप्त ने बताया कि ऑर्थराईटिस में आरए फैक्टर एवं ईएसओ पोजिटिव हो जाता है। वहीं ईएसआर यूरिक एसिड बढ़ जाने से की परेशानियां बढ़ जाती हैं। कहा कि ऑर्थराईटिस मूल रुप से चार प्रकार के होते हैं। उम्र बढ़ने के साथ जोड़ों में कार्टिलेज घिस जाने या चोट लगने से दर्द होता है। जोड़ों में सूजन आ जाती है। वहीं गठिया में यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ जाती है जो क्रिस्टल के रूप में जोड़ों में जमा हो जाता है। कहा कि कैल्सियम की कमी से हड्डियां खोखली एवं कमजोर हो जाती हैं। एक ओर जहां सभी कैदियों को क्या खाएं नहीं खाएं इसकी जानकारी दी गई। वहीं शरीर को स्वस्थ निरोग बनाने में कारगर कपालभाति, भुजंगासन, शलभासन, धनुरासन, मर्कटासन, सेतुबंधासन एवं उष्ट्रासन का अभ्यास कराया गया। जानकारी दी गई कि यूरिक एसिड बढ़ने से पीएच लेवल अम्लीय हो जाता है। वहीं विटामिन (सी) वाले आहार लेने से यूरिक एसिड कम होता है। साथ ही गिलोय, एलोवेरा, लहसुन, हल्दी एवं मेथी लेने से होने वाले फायदे की जानकारी दी। वहीं जीवन जीने के सलीके, समाज निर्माण, व्यक्ति निर्माण एवं देशप्रेम का भी पाठ पढ़ाया गया। मौके पर जेलर संजय कुमार सिंह, कारा कर्मी मुन्ना दयाल राम, कृष्णा कुमार गिरि, रूपनारायण कुमार, संतोष कुमार पांडेय, दीपक कुमार, सिकंदर कुमार यादव, मिथिलेश कुमार, ओम कुमार गुप्ता, शशि कुमार, विक्रम कुमार मिश्रा एवं अरूण कुमार सहित दर्जनों कैदियों ने योगाभ्यास में हिस्सा लिया।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप