मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

शिवहर। सूर्योपासना का चार दिवसीय चैती छठ मंगलवार की सुबह नहाए-खाए खाय के साथ प्रारंभ हो गया। इस दौरान छठ व्रतियों ने नदी एवं तालाब में स्नान किया। वहीं मिट्टी निर्मित नवीन चूल्हे पर तैयार किए गए विशुद्ध आहार ग्रहण किया। इसके बाद उपवास व्रत भी प्रारंभ होगा। पारण शुक्रवार को प्रात:कालीन अ‌र्घ्य समर्पित करने के बाद किया जाएगा। बुधवार को व्रत का खरना एवं गुरुवार को सांध्यकालीन अ‌र्घ्य दिया जाएगा। छठ व्रत को लेकर शहर से लेकर गांव तक छठ गीतों का शोर सुनाई देने लगा है। वहीं छठ घाट भी बनाने की योजना बनाई जा रही है। नदी तालाब किनारे जहां केले के पौधों के बंदनवार बनाए जाएंगे। वहीं कई लोगों ने छतों पर भी कृत्रिम छठ घाट बनाए हैं। शहर से लेकर गांव हर तरफ आदिदेव सूर्य की आराधना का भक्तिमय वातावरण हो गया है। वहीं बाजारों में भी छठ पर्व से जुड़ी विभिन्न वस्तुओं की दुकानें सज गई है। जहां व्रतियों द्वारा खरीदारी की जा रही है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप