सारण। नयागांव थाना क्षेत्र के डुमरी बुजुर्ग पंचायत निवासी कृष्ण मोहन ¨सह व गायत्री ¨सह के छोटे बेटे संजीव ने यूपीएससी द्वारा आयोजित आइईएस यानि इंडियन इंजीनिय¨रग सर्विस की परीक्षा में मैकेनिकल ग्रुप में देश भर में 12वां रैंक हासिल किया है। ग्रामीण अपने बेटे संजीव की इस सफलता पर खुशी जता रहे है। उसने गांव के साथ ही सारण जिले का नाम रोशन किया है । बकौल संजीव जवाहर नवोदय विद्यालय सारण से 2005 में 83 प्रतिशत अंकों के साथ बोर्ड परीक्षा मे सफलता हासिल की। फिर 2007 में अनुग्रह नारायण कॉलेज पटना से 68 प्रतिशत अंकों के साथ आइएससी पास की। इसके बाद उसने वर्ष 2008 में मरीन इंजीनिय¨रग एंड रिसर्च इंस्टीट्यूट कोलकाता से बीई की डिग्री प्राप्त किया। वर्ष 2012 में उसका कैंपस सेलेक्शन हो गया और जापान की एनवाईके शिप मैनेजमेंट कंपनी में उसने मरीन इंजीनियर के नौकरी शुरु किया। जापान की लगभग दो लाख रूपये मासिक वेतन की नौकरी कुछ और करने की चाहत लिए वह वर्ष 2015 में भारत आ गया और दिल्ली में आइईएस की तैयारी में जुट गया। फिर परीक्षा के तीन चरणों में सफलता हासिल करते हुए अंतिम तौर पर चयनित हुआ। सोमवार की रात जैसे से उसके घर के लोगों को संजीव के चयन की सूचना मिली तो पूरे गांव में जश्न का माहौल दिखा और बधाई देने के लिए लोगों का तांता लगा रहा। संजीव सफलता का श्रेय उनके माता पिता व बड़े भाई व गुरूजनों को दिया है ।उसने कहा कि रेलवे में ज्वाइन करना उसकी पहली प्राथमिकता होगी।उधर संजीव की सफलता पर पूर्व विधायक विनय कुमार ¨सह,जिला परिषद उपाध्यक्ष ब्रजकिशोर ¨सह,समाजसेवी उदय ¨सह समेत कई प्रबुद्ध लोगों ने बधाई दी है।

Posted By: Jagran