संसू, लहलादपुर : पैक्स चुनाव संपन्न हुए अभी महीना दिन भी नहीं हुआ कि किसान उपेक्षित कर दिए गए हैं। नतीजा है कि पैक्सों में सरकारी दर पर धान बेचने के बजाय किसान बिचोलियों से औने पौने दाम पर बेचने को मजबूर है। 18 सौ रुपये प्रति क्विटल की जगह किसानों को हजार-11 सौ में धान बेचना पड़ रहा है।

प्रखंड के आठ में से फिलहाल तीन पैक्सों किशनपुर लौंवार, मिर्जापुर और बनपुरा में ही धान की खरीदारी हो रही है। अन्य पैक्स सुस्त पउ़े हैं। बसहीं, दयालपुर,पैक्स अध्यक्ष धान खरीदने के लिए कागजी और विभागीय कारवाई में जुटे है। इस बीच बताया जाता है कि कटेयां पैक्स को धान खरिदारी का अधिकार ही नहीं मिलेगा। क्योंकि विभाग ने डिफॉल्टर घोषित कर दिया है। फिलहाल कटेयां पैक्स को बनपुरा पैक्स में धान खरीद के लिए टैग कर दिया गया है। किसान बनपुरा पैक्स को अपना धान बेच सकते है। बोले किसान :

फोटो 16 सीपीआर 17

पैक्स अध्यक्षों की मनमानी से किसानों को लाभ नहीं मिल रहा है। कभी भी उन्हें कटेयां पैक्स से कोई लाभ नहीं मिल पाया। तीस क्विटल धान बेचना है,लेकिन पैक्स धान नहीं खरीद रहा है।

कमलदेव पटेल, किसान, तमनपुरा फोटो 16 सीपीआर 18

मैंने अपना दस क्विटल धान कम दर पर स्थानीय व्यवसायियों को बेच दिया। किसानों को पैक्स का कोई लाभ नहीं मिलता।

सुनील यादव,किसान, कटेयां पैक्स क्या कहते है पैक्स अध्यक्ष :

फोटो 16 सीपीआर 16

अभी बसहीं पैक्स का ऑडिट का काम चल रहा है। ऑडिट हो जाने के बाद बसहीं पैक्स के किसानों के धान की खरीद की जाएगी। आशुतोष पांडेय अनल, पैक्स अध्यक्ष, बसही वर्जन :

फोटो 16 सीपीआर 15

कटेयां और दंदासपुर पैक्स के धान अधिप्राप्ति पर रोक लगाई गई है। कटेयां पैक्स को बनपुरा पैक्स में एवं पुरषोतमपुर पैक्स को बसहीं पैक्स में टैग किया जाएगा। कटेयां पैक्स के किसान बनपुरा पैक्स को अपना धान बेच सकते है।

मिथिलेश कुमार,बीसीओ लहलादपुर

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस