जागरण संवाददाता, छपरा : जयप्रकाश विश्वविद्यालय के राष्ट्रीय सेवा योजना (एनएसएस) के कैडेट ग्रामीण क्षेत्र में स्वच्छता, स्वास्थ्य व साक्षरता के क्षेत्र में कार्य करेंगे। ताकि ग्रामीण क्षेत्र के लोगों के जीवन में सामाजिक शैक्षणिक व आर्थिक बदलाव हो सके। उसके साथ ही वे ग्रामीण विकास के योजनाओं का प्रचार-प्रसार कर लोगों को जागरूक करेंगे। इस संबंध में विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) ने जयप्रकाश विश्वविद्यालय समेत सूबे के अन्य विश्वविद्यालय को पत्र भेजा है। कहा गया है कि ग्रामीण क्षेत्रों में साक्षरता, स्वास्थ्य, स्वच्छता एवं आर्थिक स्वालंबन, लिग भेदभाव, बालिका शिक्षा आदि पर विशेष कार्य किया जाएगा।

उसके लिए गांव का चयन कर वहां प्लान बनाकर कार्य किया जाए। ताकि वहां का विकास हो सके। गांव में महिलाओं को डिजिटल साक्षर भी बनाने को कहा गया है। यूजीसी ने कालेज कैंपस के आस-पास करीब पांच किलो मीटर के परिधि वाले ग्रामीण क्षेत्र में कार्य करने को कहा गया है। इसके लिए एनएसएस इकाई को अतरिक्त राशि नहीं मिलेगी। एनएसएस के घोषित कार्यक्रम के अलावा ही चयनित गांवों में कार्य करना होगा। जिसमे दलित व अतिपिछड़ा गांव को चयन करने को कहा गया है। ताकि वहां के लोग भी समाज के मुख्यधारा में आ सके। जेपी विश्वविद्यलाय के छपरा, सिवान व गोपालगंज के कालेजों में चलने वाले प्रत्येक एनएसएस इकाई को ग्रामीण क्षेत्र में जागरूकता कार्यक्रम चलाने को कहा गया है। जेपीयू के एनएसएस कैडेट ट्विकल कुमारी ने कहा कि एनएसएस को जो नई जिम्मेवारी मिलेगी है। उससे कैडेटों का भी विकास होगा।

-------------

जेपी विश्वविद्यालय की एनएसएस इकाई एक नजर में

- अंगीभूत कालेज - 21

- संबद्ध कालेज - 11

- एनएसएस इकाई - 60 (कई कालेजों में दो -तीन इकाई है)

---------

एनएसएस के तय कार्यक्रम :

- विशेष कैंप

- पौधारोपण

- साक्षरता अभियान

- ब्लड डोनेशन कैंप

- आरटीआई जागरूकता

- एड्स जागरूकता

- प्रदर्शनी

- आपदा प्रबंधन

- महिला सशक्तिकरण

- आत्मरक्षा

- सेमिनार

- स्वास्थ्य जागरूकता -------------

जयप्रकाश विश्वविद्यालय के एनएसएस इकाई को गांव में स्वास्थ्य,साक्षरता एवं आर्थिक स्वावलंबन को ले जागरूकता अभियान चलाने को जल्द ही पत्र जारी किया जाएगा।

-प्रो. (डा.) हरिश्चंद्र एनएसएस समन्वयक, जेपी विश्वविद्यालय, छपरा।

----------------

- गांव का चयन कर साक्षरता, स्वास्थ्य, स्वच्छता का कार्यक्रम चलाएंगे कैडेट

- लोगों में आर्थिक व शैक्षणिक बदलाव के लिए गांव-गांव करेंगे जागरूक

Edited By: Jagran