छपरा। पूर्वोत्तर रेलवे के छपरा-मांझी रेलखंड के दोहरीकरण का काम वर्ष 2020 के अंत तक पूरा करा लिया जाएगा। वहीं छपरा से औड़ीहार तक रेलखंड के दोहरीकरण का काम दिसंबर 2021 तक पूर्ण हो जायेगा। ये बातें पूर्वोत्तर रेलवे के वाराणसी मंडल रेल प्रबंधक विजय कुमार पंजियार ने वर्चुअल प्रेस कॉन्फ्रेंस में सोमवार को कहीं। उन्होंने कहा कि छपरा-ओड़ीहार रेलखंड पर मांझी तथा बकुल्हां के बीच घाघरा नदी पर रेलवे पुल के निर्माण का काम दिसंबर 2022 तक पूरा करा लिया जाएगा। डीआरएम ने कहा कि लॉकडाउन के दौरान रेलवे ने निर्माण तथा विकास के काम को काफी तेजी के साथ पूरा किया है। उन्होंने कहा कि यात्री ट्रेनों का परिचालन बंद रहने के कारण रेलवे को काफी आर्थिक नुकसान हुआ है, लेकिन इसकी भरपाई माल वाहक ट्रेनों का परिचालन कर पूरा करने का हर संभव प्रयास लगातार जारी है।

उन्होंने कहा कि छपरा जंक्शन के यार्ड का री-मॉडलिग के काम निर्माण विभाग के द्वारा कराया जा रहा है। फिलहाल ब्लॉक लेने की आवश्यकता नहीं है, क्योंकि ट्रेनों की संख्या कम है। महत्वपूर्ण काम शुरू होने में अभी समय लगेगा और यार्ड के री-मॉडलिग का काम छपरा मांझी रेलखंड के दोहरीकरण के साथ पूरा हो जाएगा। साथ ही छपरा जंक्शन और छपरा कचहरी के बीच थर्ड लाइन का निर्माण कार्य पूरा हो जाएगा। पहले चरण के यार्ड री-मॉडलिग का काम इस वर्ष के अंत तक पूरा करा लिया जाएगा। उन्होंने बताया कि 2021 के अंत तक छपरा जंक्शन के सेकंड एंट्री गेट और तीन नए प्लेटफॉर्म का निर्माण कार्य पूरा कराने का लक्ष्य रखा गया है।

मौके पर अपर मंडल रेल प्रबंधक (इंफ्रा) प्रवीण कुमार, अपर मंडल रेल प्रबंधक (ऑपरेशन ) एसपीएस यादव, वरिष्ठ मंडल वाणिज्य प्रबंधक संजीव शर्मा, वरिष्ठ मंडल परिचालन प्रबंधक रोहित गुप्ता, वरिष्ठ मंडल अभियंता (समन्वय) राजीव अग्रवाल, वरिष्ठ मंडल अभियंता (प्रथम) जेपी सिंह, वरिष्ठ मंडल अभियंता (द्वितीय) एमके सिंह, वरिष्ठ मंडल अभियंता (तृतीय) अतुल त्रिपाठी, मंडल अभियंता एके सिंह, वरिष्ठ मंडल अभियंता दूरसंचार एवं सिग्नल आशुतोष पांडेय, जनसंपर्क अधिकारी अशोक कुमार आदि मौजूद थे।

Edited By: Jagran