समस्तीपुर । बाल विवाह तथा दहेज प्रथा उन्मूलन के लिए अनुमंडल स्तरीय गठित टास्क फोर्स की पहली बैठक मंगलवार को आयोजित हुई। पटोरी अनुमंडल के सभाकक्ष में आयोजित इस बैठक में सर्वसम्मति से यह निर्णय लिया गया कि दहेज प्रथा और बाल विवाह रोकने वाले व्यक्तियों का चयन कर उन्हें सम्मानित किया जाएगा। यह भी निर्णय लिया गया कि इसके लिए प्रत्येक माह बैठक आयोजित की जाएगी तथा इन कुप्रथाओं के अतिरिक्त लिगानुपात कम करने, स्कूल और कॉलेज की बच्चियों में सेनेटरी नैपकिन की सुविधा बढ़ाने, बाल विवाह को हटाने आदि मुद्दों पर विचार किया गया। बैठक में चिता व्यक्त की गई की पूरे राज्य में बाल विवाह दर 42 प्रतिशत है। जबकि समस्तीपुर में यह दर काफी अधिक है। यहां का बाल विवाह पर 53.5 प्रतिशत है। इसे हाई बर्डेन जिले की श्रेणी में रखा गया है। इस बैठक में एक्शन एड, यूनिसेफ, समाज कल्याण विभाग, महिला विकास निगम आदि के प्रतिनिधियों ने भी हिस्सा लिया। एसडीओ मोहम्मद शफीक की अध्यक्षता में आयोजित इस बैठक में एक्शन एड की ओर से बाल विवाह उन्मूलन कार्यक्रम की जिला समन्वयक अरविद कुमार, महिला विकास निगम समाज कल्याण विभाग के प्रखंड समन्वयक राजीव रंजन, पूर्व प्रखंड प्रमुख अनिता राय, आरती जगदीश महिला महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ. प्रेम कुमार पांडेय, एसएस कॉलेज हवासपुर के प्राचार्य प्रोफेसर अनिल कुमार ठाकुर, गुलाब बूबना इंटर हाई स्कूल के एचएम मोहम्मद खालिद हुसैन, एएनडी कॉलेज के प्रतिनिधि श्याम लाल सिंह आदि मौजूद थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस