समस्तीपुर। सदर अस्पताल के आपातकालीन वार्ड के परिसर में शुक्रवार को अत्याधुनिक आंख के ऑपरेशन थियेटर में शुक्रवार को पहले दिन छह मरीजों के मोतियाबिद का ऑपरेशन किया गया। नेत्र चिकित्सक डॉ. पवन कुमार ने सभी का ऑपरेशन किया। इससे पूर्व आंख विभाग में ऑपरेशन कराने के लिए पहुंचे आठ मरीजों की जांच हुई। जिसमें छह का ही ऑपरेशन किया गया। विदित हो कि सभी संबंधित मरीजों की जांच कराने के बाद निबंधन किया गया था। विदित हो कि स्वास्थ्य प्रशासन ने व्यवस्थित ढंग से आंख के ऑपरेशन करने के लिए आई ओटी बनाया है। इस पहल से मरीजों को चिकित्सकीय सुविधा वरदान साबित होगी। ईएनटी विभाग को भी किया जाएगा दुरुस्त

आंख विभाग के लिए इलेक्ट्रिक कॉटरी उपकरण की खरीदारी की गई है। फिजियोथेरेपी व ऑकुपेशनलथैरेपी विभाग के लिए के लिए 1.57 लाख रुपये मूल्य के उपकरण की खरीदारी की गई है। इसके लिए ऑटोमेटिक स्टेब्लाइजर, शॉर्ट वेव डाइथर्मी, एक्सरसाइज टेबल, ऑटोमेटिक सर्वाइकल व लंबर ट्रैक्शन मशीन उपलब्ध कराई गई है। वहीं, ईएनटी विभाग के लिए 90 हजार रुपये मूल्य के उपकरण की खरीदारी का निर्णय लिया गया है। इसके लिए बुल्स आई लैंप, माइक्रो ओरल फोरसेप, हेड मिरर, टिल्लीज ड्रेसिग फोरसेप्स, ओरल स्पेकुलम, नसल स्पेकुलम, टंग डिप्रेशर, जोबसंस हॉर्न प्रोब, फॉरेन बॉडी हूक, आरटरी फोरसेप, सेक्शन मशीन, सेप्टोप्लास्टी सेट, अंटरल पंचोर वाश सेट, स्ट्रेलाइजर, माइरेंजोप्लास्टी सेट, इलेक्ट्रिक कॉट्री उपकरण उपलब्ध कराया गया है। स्वास्थ्य संस्थानों में विजन सेंटर होगा दुरुस्त

सरकारी स्वास्थ्य संस्थानों में नेत्र जांच की सुविधा पहले से और भी हाईटेक बनाया जा रहा। इसके लिए जिले के चार स्वास्थ्य संस्थानों का चयन किया गया है। इसमें प्रत्येक संस्थान में एक-एक लाख रुपये खर्च किए जाएंगे। राष्ट्रीय अंधापन कार्यक्रम के अंतर्गत जहां नेत्र चिकित्सक उपलब्ध हैं, वहां नेत्र जांच की सुविधा सुदृढ़ की जाएगी। इसमें उपकरण व उपस्कर की भी खरीदारी होगी। प्रत्येक विजन सेंटर में एक नेत्र चिकित्सक और सहायक होंगे, जो प्राथमिक नेत्र उपचार और उससे संबंधित बीमारियों के संबंध में जरूरी सलाह प्रदान करेंगे। इसके लिए विभागीय तैयारी और रणनीति शुरू कर दी गई है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस