समस्तीपुर। ठंड के मौसम में भी मच्छरों के प्रकोप से परेशान हैं रोसड़ावासी। आम लोगों की मांग पर नगर पंचायत बोर्ड की बैठक में पार्षदों ने सर्वसम्मति से प्रत्येक वार्ड में फॉगिग मशीन नियमित चलाने का निर्णय लिया। करीब दो माह बीत जाने के बावजूद अब तक एक दिन भी शहर में फागिग मशीन नहीं चल पाई है। कार्यपालक पदाधिकारी की उदासीनता या कर्मियों की मनमानी जो भी हो, नगर पंचायत कार्यालय में रखा 15 फागिग मशीन केवल शोभा की वस्तु बनी हुई हैं। लोगों की मानें तो पहले गर्मी और बरसात में ही इस प्रकार मच्छर का प्रकोप होता था, लेकिन इस वर्ष ठंड के मौसम में भी प्रकोप कम नहीं हो रहा है। और, इसका मुख्य कारण लोग समुचित साफ-सफाई का अभाव बताते हैं। शहरवासियों ने नालों एवं कूड़े कचरे की नियमित सफाई नहीं होना तथा किसी भी गली-मोहल्लों में कभी भी छिड़काव नहीं करने का आरोप लगाया है। बताया जाता है कि पूर्व में मच्छर के लार्वा को समाप्त करने के लिए सभी नालों में मिट्टी तेल डाला जाता था, जिससे मच्छरों की जनसंख्या कम होती थी। लेकिन, वर्तमान व्यवस्था में तेल डालना भी बंद हो गया है जिसके कारण मच्छरों की संख्या में बेतहाशा वृद्धि हुई है और लोग इससे खासे परेशान हैं। लोगों द्वारा लगातार मांग के बावजूद प्रशासन इस ओर ध्यान नहीं दे रहा है। और तो और, विगत माह डेंगू का प्रकोप होने के बाद भी नपं की कुंभकरणी निद्रा भंग नहीं हो सकी। मच्छरों के प्रकोप का यह आलम है कि यदि इस ओर कदम नहीं उठाया गया तो गली मोहल्लों में महामारी फैलने से भी इन्कार नहीं किया जा सकता।

-------------------

वर्जन

विगत माह नगर पंचायत बोर्ड की बैठक में मच्छरों के प्रकोप के मद्देनजर सभी वार्डों में फॉगिग मशीन चलाने का निर्णय लिया गया। उक्त आलोक में कार्यपालक पदाधिकारी को कई बार मौखिक रूप से भी फॉगिग कराने का निर्देश दिया जा चुका है।

श्याम बाबू सिंह, मुख्य पार्षद,

नगर पंचायत रोसड़ा

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस