समस्तीपुर। मंदिर में शादी की, पुत्र भी हुआ, 9 वर्षों तक साथ रहा, फिर बाद में दूसरी शादी कर ली। पीड़िता अपने पुत्र के साथ थाने पहुंच कर प्राथमिकी दर्ज कराई है। युवक के साथ मंदिर में शादी का महिला के पास न तो कोई तस्वीर है और न ही कोई प्रमाण। मामला मोहनपुर प्रखंड का है। मोहनपुर ओपी क्षेत्र के डुमरी गांव निवासी सरेख राय की पुत्री पूनम कुमारी (28) के द्वारा मोहनपुर ओपी में दिए गए आवेदन के आलोक में पटोरी थाना में दहेज प्रताड़ना की प्राथमिकी दर्ज की गई है। दर्ज प्राथमिकी में युवक के परिवार के 9 सदस्यों को नामजद अभियुक्त बनाया गया है। पूनम ने आरोप लगाया है कि वर्ष 2012 में मोहनपुर प्रखंड के बघड़ा निवासी पुरुषोत्तम राय का पुत्र चंदन कुमार उसे बहला-फुसलाकर शादी का झांसा देकर हाजीपुर ले गया। बाद में वह उसके साथ दिल्ली रहने लगा। जहां दोनों पति-पत्नी की तरह रहने लगे। पूछने पर स्वजनों ने बताया कि मंदिर में दोनों ने शादी कर ली थी। 2016 में चंदन एवं पूनम को पुत्र प्राप्त हुआ। चंदन ने अपने बेटे का नाम सुधांशु रखा। उसे अच्छे स्कूल में पढ़ाने लगा। इस बीच तीनों की जिदगी मजे से चल रही थी। चंदन एनजीओ चलाता था। बाद में तीनों हरियाणा के फरीदाबाद में रहने लगे। वहां चंदन, अपने पिता के नाम से एक और एनजीओ चलाने लगा। लॉकडाउन के दौरान तीनों एक बार फिर नोएडा के होशियारपुर आकर एक नया एनजीओ चलाने लगे। दर्ज प्राथमिकी में 16 अप्रैल 2021 को चंदन कुछ बहाना बनाकर नोएडा से अपने घर बघड़ा चला आया तथा फोन के द्वारा पूनम को अपने पिता से 10 लाख रुपये नकद तथा एक बुलेट बाइक मांगने का दबाव दिया। राशि देने से इन्कार किया तो चंदन ने वैशाली जिले के बिदुपुर थाना स्थित मझौली निवासी सुरेंद्र राय की पुत्री से 25 अप्रैल 2021 को शादी कर ली। इस घटना की जानकारी मिलते ही पूनम, 26 अप्रैल को चंदन के घर बघड़ा पहुंची जहां चंदन के भाई कुंदन, पिता पुरुषोत्तम राय, मां किस्मत देवी, कुंदन की नई पत्नी, कुंदन की तीन बहन बबीता, मुन्नी एवं कक्कू, दामाद अजय राय आदि ने मारपीट कर पूनम को भगा दिया। अब पूनम न्याय के लिए प्रशासन की मदद मांग रही है।

Edited By: Jagran