दरभंगा । मोहिउद्दीननगर डुमैनी गांव में रविवार की रात गैस सिलेंडर के रिसाव से हुई भीषण अगलगी की घटना में दलितों के दर्जनों घर जलकर राख हो गए। आसपास के काफी घरों को नुकसान पहुंचा। जबकि एक दर्जन से अधिक मवेशी झुलसकर मर गए। घटना के बाद लोग किसी प्रकार घर से भागकर अपनी जान बचाने में सफल रहे। कितु अपनी बर्बादी नहीं रोक सके। अग्निशामक दस्ता के सहयोग से आग पर काबू पाया गया। जानकारी के अनुसार गणेशी पासवान के घर में रविवार की देर संध्या खाना बनाने के क्रम मे घरेलू गैस सिलेंडर के रिसाव से आग लग गई। रिसाव के बाद सिलेंडर फट गया। इससे निकली चिगारी से सुशील पासवान, दिनेश पासवान, राजमोहन पासवान, ब्रह्मदेव पासवान, शिवनाथ पासवान, मुकुल पासवान, शोभेलाल पासवान, मंजीत पासवान, सिघेश्वर पासवान, रविन्द्र पासवान, भजन पासवान, कृष्णा पासवान, वैद्यनाथ पासवान, रामगुलाम पासवान, सत्यनारायण पासवान, लालती देवी, जंजीर पासवान सहित आसपास के डेढ दर्जन से अधिक घर जलकर राख हो गए। थाने एवं पटोरी से आयी अग्निशामक की टीम की तत्परता से आग पर काबू पाया गया। जिससे बहुत सारे घर जलने से तो बच गए। कितु प्राय: घरों को नुकसान पहुंचा। आग की लपटें इतनी तेज थी कि उस पर काबू पाना मुश्किल हो रहा था। वहीं गैस सिलेंडर के फटने से लोगों में दहशत सा हो गया। सुरक्षा के ²ष्टिकोण से आसपास के घरों को उजाड़ कर उसे बचाया गया। इस घटना में नकदी, जेवरात, खाद्यान, वस्त्र सबकुछ जलकर खाक हो गये।

कैसे होगी बिटिया की शादी, सता रही चिता

बड़े अरमान से किसी ने बेटी की शादी तो किसी ने बेटे की शादी के लिए तैयारी कर रखी थी। कितु एक ही झटके में सबकुछ जलकर राख हो गया। बताते है कि गणेशी पासवान का बेटा राजमहल, वैद्यनाथ महतो की बेटी क्रांति एवं रविन्द्र पासवान की बेटी अंकिता की शादी इसी माह होने वाली थी। जिसकी तैयारी जोरों से चल रही थी। इसको लेकर काफी सामग्री की खरीदारी भी कर रखा था। कितु आग ने सबकुछ जलाकर राख कर दिया।

दाने -दाने को मोहताज हो गए अग्निपीड़ित

दाने-दाने को मोहताज हो अग्निपीड़ितों की जिदगी खुले आसमान के नीचे कट रही है। जिसे रात में चांद की रौशनी तो दिन में तपती घूप से सामना करना पड़ता है। आशियाना में जीवन-वसर करने वाले परिवार आज दूसरों की राहत पर आस टिकाए है। भूख प्यास से तड़पते बच्चे और बड़े बुजुर्गो की आंखों से निकल रहे आंसू यह बयां करने के लिए लिए काफी है कि आखिर कितनी मुसीबत को झेल वे अपना आशियाना बनाया था। कितु पल भर में सबकुछ लूट जाने का गम सभी अग्निीपीड़ितों के आंसों में झलक रहा है।

जांच के बाद सीओ ने बांटी राहत

घटनास्थल पर पहुंचकर सीओ प्रमोद रंजन ने क्षति का मुआयना किया। वहीं सरकारी स्तर पर अग्निपीड़ित परिवारों के बीच प्रति परिवार 9 हजार 8 सौ रुपये सहायता राशि का चेक वितरण किया। सीओ ने बताया कि अग्निशमन दस्ता एवं ग्रामीणों के सहयोग से भीषण आग पर काबू पाया गया। वरना काफी संख्या में घर जल जाते। सरकारी आंकड़ों में डेढ़ दर्जन घर जलने की बात बताई गई है। वहीं जिन घरों का नुकसान पहुंचा है, उसे भी सूचीवद्ध करने की प्रक्रिया जारी है।

राहत वितरण के लिए आगे आये जनप्रतिनिधि

अग्निपीड़ितों के बीच राहत मुहैया कराने मे स्थानीय जनप्रतिनिधि जुटे है। भाजपा नेता राजेश कुमार सिंह, रविश कुमार की ओर से राहत स्वरुप चुड़ा गुड़ एवं अंगवस्त्र का वितरण किया गया। वहीं पंचायत के मुखिया संजू यादव एवं मनोज कुमार सुनील ने अपने निजी कोष से भोजन की व्यवस्था करायी है। वहीं चुड़ा गुड़ का वितरण भी किया। वहीं पंचायत के सरपंच रामबाबू पासवान, कृष्णा पासवान, शत्रुध्न पासवान समेत ग्रामीण पीड़ितों की सहायत में जुटे है।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप