मस्तीपुर । मोरवा प्रखंड के निकसपुर पंचायत अंतर्गत चंदौली में अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र को उत्क्रमित कर पीएचसी-सीएचसी में करने की स्वीकृति बिहार मंत्री परिषद ने की थी। बावजूद इसका अनुपालन नहीं हो पा रहा है। तत्कालीन स्वास्थ्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे ने चंदौली में पीएचसी बनाने की स्वीकृति दी थी। विभागीय अधिसूचना जारी होने के बावजूद तत्कालीन जिला पदाधिकारी ने उक्त स्वीकृति को दरकिनार करते हुए चन्दौली पीएचसी- सीएचसी के कार्य को ठंडे बस्ते में डाल दिया। उस समय अतिरिक्त स्वास्थ्य केंद्र चंदौली को मोरवा पीएचसी में करने एवं मोरवा पीएसी को चंदौली ले जाने की अनुमति दी गई थी। मंत्री परिषद के आदेश के बावजूद मोरवा को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में तब्दील करते हुए 30 बेड वाली सुविधा उपलब्ध कराई गई। इससे लोगों में खुशी हुई। बावजूद चंदौली में पीएससी निर्माण नहीं होने एवं 30 बेड की सुविधा वाली अस्पताल नहीं बनने से घोर निराशा है। बता दें कि वर्ष 1987 में जननायक कर्पूरी ठाकुर ने अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र का शिलान्यास किया था। बाद में उसका उद्घाटन तत्कालीन मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव ने किया था। उस समय यहां स्वास्थ्य सुविधाएं भी उपलब्ध कराई गई थी। लेकिन धीरे-धीरे सुविधाएं नदारद हो गई।

Posted By: Jagran