समस्तीपुर। नगर पंचायत अध्यक्ष और उपाध्यक्ष चुनाव के साथ ही नवगठित सरकार के लिए शहर को स्वच्छ और सुंदर बनाने की चुनौती चुने गए 14 पार्षदों पर होगी। ज्यादा जिम्मेवारी अध्यक्ष राजेश पासवान तथा उपाध्यक्ष चंदन प्रसाद के लिए होगी। शहर कई वर्षों से अपने विकास के लिए कराह रहा है। अधूरे कार्यों को पूरा कराना नवनिर्वाचित वार्ड पार्षदों की जिम्मेवारी भी है। वर्तमान परिस्थितियों को देखे तो बढ़ रही आवादी और गाड़ी की बेतहाशा संख्या वृद्धि के कारण सबसे बड़ी समस्या सड़क जाम की है। जिससे नगर पंचायत के लोगों के साथ शहर आने वाले लोगों की सबसे बड़ी परेशानी है। इस शहर की आबोहवा को गंदगी और कचरे ने शहर को बीमार कर रखा है। इसके पीछे सड़क पर जहां-तहां फैले कचरे के बीच सूअरों की धमा-चौकड़ी, असहनीय बदबू, सड़कों पर आवारा कुत्तों का आतंक इसके प्रमुख कारण हैं। बिना नक्शा पास कराए लोग आलीशान मकान बना रहे हैं। नाली, सड़क और जल निकासी हवा आदि का भी ख्याल नहीं रखा जा रहा है। शहर की सड़क और नालियों पर जहां मन किया, वहीं दुकान लगा कर अतिक्रमण कर लिया गया है। इतना ही नहीं, गांव की तरह सड़कों पर जहां-तहां वाहनों को पार्क किया जा रहा है। जिससे पूरा शहर जाम की समस्या से जुझता है।

गांव से भी बदतर स्थिति में है शहर

शहर गांव से भी बदतर स्थिति में है। शहर में रहने वाले नागरिक भी कानून को नहीं मानते हैं। कचरा रखने के लिए कूड़ादान के साथ साथ डोर टू डोर कूड़ा संग्रह ठेला की व्यवस्था जरूर है, लेकिन कचरा सड़क और नालियों में आज भी डाला जा रहा है। उसमें से निकल रही बदबू ने पर्यावरण को खतरे में डाल दिया है। नगर सरकार को इन समस्याओं को दूर करना होगा। इसके लिए पुख्ता प्ला¨नग के साथ संसाधनों का उपयोग करना होगा। इसके साथ ही आम लोगों को भी जागरूक करना होगा, ताकि वे अपने कर्तव्यों को समझ कर शहर के विकास में योगदान दें।

प्रकाशीय व्यवस्था के साथ शुद्ध पानी भी है समस्या

शहर के लोगों के लिए शहर में प्रकाशीय व्यवस्था के साथ साथ लोगो को शुद्ध पेय जल भी उपलब्ध कराना नई सरकार के लिए एक चुनौती होगी। पूर्व की सरकार ने प्रकाशीय व्यवस्था पर तो कई लाख खर्च कर शहर में मात्र एक वर्ष ही प्रकाश की व्यवस्था कर पायी लेकिन नई सरकार को स्थायी रूप से यैसी प्रकाशीय व्यवस्था करनी होगी जो लंबे समय तक लोगो को मिल सके। वहीं शुद्ध पे जल हर घर में पहुचाने के लिए भी नई सरकार को कुछ नया करना होगा।

वार्ड पार्षदों को संगठित रखाना भी होगा चुनौती

नगर पंचायत में इस बार ज्यादातर वार्ड पार्षद नए और युवा है। नगर पंचायत के समुचित विकास के लिए संगठित वार्ड पार्षदों को संगठित रखना और विकास के लिए योजनाओं पर मोहर लगवाना अध्यक्ष और उपाध्यक्ष के लिए बड़ी चुनौती होगी।

12 जून को पदभार ग्रहण और 15 को होगा सशक्त स्थायी समिति का गठन

नगर पंचायत के उपाध्यक्ष चंदन प्रसाद ने बताया कि 12 जून को सभी वार्ड पार्षद अपना अपना पदभार ग्रहण करेंगे। वहीं 15 जून को सशक्त स्थायी समिति का गठन किया जाएगा। जिसके बाद नगर पंचायत के विकास को लेकर पार्षदों की समान्य बैठक होगी।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप