समस्तीपुर। समस्तीपुर-खगड़िया रेल खंड के बरैपुरा हॉल्ट और हसनपुर रेलवे स्टेशन के बीच डुमरा गांव के निकट शनिवार को 05244 डाउन सवारी गाड़ी से गिरकर एक बीस वर्षीय युवक की मौत हो गई। वहीं दक्षिणी आउटर सिग्नल के समीप ट्रेन की चपेट में आने से 40 वर्षीय मंदबुद्धि महिला की मौत हो गई। सूचना मिलते ही स्थानीय थाना की पुलिस ने पहुंचकर युवक का शव अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल समस्तीपुर भेज दिया। जबकि महिला के शव को पंचनामा भरकर स्वजनों के हवाले किया गया। मृतक की पहचान बेगूसराय जिले के छौड़ाही ओपी अन्तर्ग बरैपुरा ग्राम निवासी रामाशीष सहनी के पुत्र कृष्णा कुमार सहनी के रूप में की गई। मृतक के जेब से पुलिस ने बरैपुरा हॉल्ट से खगड़िया रेलवे स्टेशन तक का रेल टिकट बरामद किया है। घटना के संबंध में बताया गया है कि कृष्णा शनिवार की अहले सुबह किसी कार्य से बरैपुरा हॉल्ट पर टिकट लेकर 05244 डाउन सवारी गाड़ी पर सवार होकर खगड़िया रेलवे स्टेशन के लिए रवाना हुआ। सवारी गाड़ी ज्योहीं डुमरा गांव के समीप पहुंची कि गेट पर खड़ा कृष्णा कुमार अचानक नीचे गिर गया। जिससे ट्रेन की चपेट में आ जाने से घटना स्थल पर ही उसकी मौत हो गई। घटना की सूचना मिलते ही जीआरपी थानाध्यक्ष केदार प्रसाद एवं स्थानीय थानाध्यक्ष पंकज कुमार घटना स्थल पर पहुंचकर आवश्यक कागजी प्रक्रिया पूरी करने के बाद शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। इसी तरह हसनपुर रोड रेलवे स्टेशन के दक्षिणी होम सिग्नल के समीप शनिवार को ही 05221अप सवारी गाड़ी के चपेट में आने से एक 40 वर्षीय मंदबुद्धि महिला की मौत हो गई। मृत महिला की पहचान थाना क्षेत्र के मरांची उजागर पंचायत के मल्हीपुर निवासी स्व. खाखो दास की पुत्री ममता देवी के रूप में की गई है। घटना की सूचना पर पहुंचे थानाध्यक्ष पंकज कुमार ने बताया कि मृत महिला मंदबुद्धि की थी। बाजार के एक होटल में बर्तन धोने की काम किया करती थी। घटना स्थल से बरामद टूटा मोबाइल और पैर का चप्पल मिलने से लगता है कि महिला रेलवे ट्रैक के बगल से मोबाइल से बात करती हुई गुजर रही होगी। इसी बीच 05221 अप सवारी गाड़ी को गुजरने के दौरान चपेट में आ जाने से उसकी मौत हो गई। उन्होंने बताया कि शव कब्जे में कर पोस्टमार्टम के लिए भेजने की तैयारी की जा रही थी। लेकिन मल्हीपुर गांव के गणमान्य लोगों ने शव को पोस्टमार्टम कराने से इंकार कर दिया। पंचायत के मुखिया प्रतिनिधि शिवचंद्र यादव के नेतृत्व में सामाजिक स्तर पर पंचनामा तैयार कर शव को स्वजनों के हवाले कर दिया गया।

Edited By: Jagran