सहरसा। पूर्व मध्य रेल सहरसा स्टेशन पर इंजन में डीजल भरने के लिए लगाया गया पाइप जंक खाकर जर्जर हो गया है। जिस कारण पाइप से डीजल बहकर नीचे गिर रहा है। सहरसा स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर दो पर चार नंबर रेल पटरी के बगल में लगाए गए पाइप पिछले दो दशक पूर्व ही लगाए गए थे। लेकिन रख रखाव के अभाव में पाइप कई जगहों से रिसने लगा है। कोरोना काल में ट्रेनों की आवाजाही शुरू होने के बाद पहले डीजल प्वाइंट के पास ही इंजन में डीजल दिया जाता था। लेकिन अब प्लेटफार्म के पास ही इंजन में डीजल की आपूर्ति देने के लिए लगाए गए डीजल पाइप से डीजल दिया जाने लगा। जिस कारण पाइप जगह- जगह से डैमेज होने के कारण डीजल कई जगहों से बूंद- बूंद के रूप में रिस रहा है। यह कई दिनों से हो रहा है। स्थानीय रेल कर्मचारियों ने कैरेज विभाग को इसकी सूचना कई बार दी है। इतना ही नहीं पाइप से नीचे गिर रहे डीजल को लोगों ने ग्लास व बाल्टी रखकर भी उसे जमा करने में लग गए। प्लेटफार्म नंबर दो पर आरएमएस से लेकर जीआरपी तक करीब एक दर्जन जगहों से डीजल पाइप से नीचे गिर रहा है। हालांकि कई जगहों पर तो संबंधित विभाग के कर्मियों ने उसे प्लास्टिक से बांध कर रिपेयरिग किया है। इसके बाद भी डीजल का गिरना जारी है। दिन भर में हजारों रूपये का डीजल मिट्टी में मिल जाता है। इस मामले में पूर्व मध्य रेल के सीनियर डीएमई रवीश कुमार पूछने पर कहते है कि पाइप को बदलने के लिए आईओसी को कहा गया है।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप