सहरसा। पूर्व-मध्य रेल सहरसा के तीनों रेलखंडों में से एक रेल खंड में रेल विद्युतीकरण का कार्य पूरा हो चुका है। सहरसा-सरायगढ़ के बीच रेल विद्युतीकरण कार्य चल रहा है। वहीं मधेपुरा-पूर्णिया कोर्ट तक रेल विद्युतीकरण कार्य तेज गति से चल रहा है। इस रेलखंड में फाउंडेशन का कार्य शुरू है। इस रेलखंड में 75 करोड़ की लागत से रेल विद्युतीकरण कार्य किया जा रहा है। हालांकि कोरोनाकाल में मजदूरों की समस्या को लेकर निर्माण कार्य प्रभावित हुआ है लेकिन संबंधित कार्य एजेंसी द्वारा निर्माण कार्य में तेजी लाई जा रही है। रेल अधिकारी ने बताया कि रेल विद्युतीकरण कार्य होने से रेल परिचालन में समय की बचत होगी और खर्च में कमी आएगी। सहरसा रेलखंड के मानसी तक रेल विद्युतीकरण कार्य दो वर्ष पहले ही पूरा हो चुका है। मधेपुरा-पूर्णिया एवं सहरसा-फारबिसगंज के बीच रेल विद्युतीकरण कार्य निर्माणाधीन है।

इससे पहले ही सहरसा-मधेपुरा के बीच दो वर्ष पूर्व ही रेल विद्युतीकरण कार्य पूरा हो चुका है। मानसी- सहरसा- मधेपुरा तक एक साथ ही रेल विद्युतीकरण कार्य पूरा कर लिया गया था। कोसी में वर्ष 2021-22 तक ही हर जगह विद्युतीकरण कार्य पूरा करने का लक्ष्य है। अंतिम चरण में राघोपुर- फारबिसगंज के बीच विद्युतीकरण कार्य पूरा किया जाएगा।

------------------------

सुपौल तक लग गया विद्युत पोल

-----

सहरसा से सुपौल स्टेशन के बीच रेल विद्युतीकरण कार्य करीब पूरा हो चुका है। सहरसा से सुपौल तक विद्युत पोल एवं तार लगा दिया गया है। सुपौल- सरायगढ़ के बीच विद्युतीकरण कार्य जारी है। इस रेलखंड में फाउंडेशन कार्य किया जा चुका है। प्रथम चरण में सरायगढ तक रेल विद्युतीकरण कार्य पूरा किया जाएगा। इसके बाद सरायगढ से फारबिसगंज के बीच रेल विद्युतीकरण कार्य शुरू किया जाएगा।

---------------------------

पूर्व मध्य रेल सहरसा के तीन खंडों में विद्युतीकरण कार्य एक वर्ष के अंदर पूरे कर लिए जाएंगे। मानसी- सहरसा- मधेपुरा के बीच विद्युतीकरण कार्य पूरा किया जा चुका है। वहीं मधेपुरा- पूर्णिया रेल खंड के बीच विद्युतीकरण कार्य अक्टूबर माह तक पूरा कर लिया जाएगा। इसके लिए संबंधित कार्य एजेंसी को निर्धारित समय सीमा के अंदर निर्माण कार्य पूरा करने का निर्देश दिया गया है।

अशोक माहेश्वरी, मंडल रेल प्रबंधक, पूर्व मध्य रेल