सहरसा। जिले में कोरोना काल में जिले के करीब एक लाख से अधिक बच्चे ऑनलाइन शिक्षा प्राप्त कर रहे हैं। सरकारी और गैर सरकारी स्कूलों द्वारा ऑनलाइन शिक्षा दिये जाने से बच्चे पढ़ाई कर रहे हैं। सरकारी स्कूलों में तो दूरदर्शन डीडी बिहार के माध्यम से बच्चों को ऑनलाइन पाठ्यक्रम से अवगत कराया जा रहा है। वहीं निजी विद्यालयों में भी ऑनलाइन पढ़ने वाले बच्चों की संख्या बढ़ती जा रही है। अब तो प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी में जुटे कुछ कोचिग संस्थानों ने भी कोरोना के समय में ऑनलाइन पढ़ाई की व्यवस्था कर रखी है जिससे छात्र-छात्राओं को घर बैठे ही शिक्षा दी जा रही है। अब तो बच्चे भी ऑनलाइन शिक्षा के अभ्यस्त हो गए है।

जिले में सरकारी स्कूल 1275 एवं निजी विद्यालयों की संख्या 550 है। सरकारी स्कूलों में वर्ग छह से बारहवीं तक की पढ़ाई के लिए आनलाइन शिक्षा हेतु ई-लाइब्रेरी बनाई गई है। जिसमें हर वर्ग के सभी विषयों का पाठयक्रम की सॉफ्टकॉपी उपलब्ध है। बिहार शिक्षा परियोजना परिषद एवं यूनिसेफ के सहयोग से दूरदर्शन के डीडी बिहार चैनल पर मेरा दूरदर्शन मेरा विद्यालय कार्यक्रम का प्रसारण मई माह से ही शुरू है। वर्ग नवम से बारहवीं की कक्षा के लिए प्रत्येक दिन दूरदर्शन द्वारा पाठयक्रम का प्रसारण किया जा रहा है। साथ ही एक से 12वीं तक की कक्षा के लिए सभी पाठयपुस्तक डिजिटल स्वरूप में पूरक सामग्री एवं वीडियो अब पोर्टल पर उपलब्ध है। ई लॉटस एप पर यह सारी सामग्री उपलब्ध है।

-----------------------

जिले में पांच लाख बच्चे है नामांकित

-----

जिले में सरकारी स्कूलों में वर्ग एक से लेकर बारहवीं कक्षा तक चार लाख बच्चे नामांकित है। वहीं गैर सरकारी स्कूलों में करीब एक लाख बच्चे नामांकित है जिसमें से सरकारी स्कूल में अध्ययनरत 52 हजार बच्चे ऑनलाइन शिक्षा प्राप्त कर रहे है। वहीं गैर सरकारी स्कूलों में अध्ययनरत 55 हजार बच्चे ऑनलाइन पढ़ रहे हैं।

------------------------

कोट

- कोरोना काल में सरकारी व गैर सरकारी स्कूल बंद है। कोरोना को लेकर ही सरकारी स्कूल के बच्चों को ऑनलाइन शिक्षा दी जा रही है जिससे हजारों बच्चे लाभान्वित हो रहे हैं।

जयशंकर प्रसाद ठाकुर, जिला शिक्षा पदाधिकारी

Edited By: Jagran