सहरसा। मादक पदार्थों की तस्करी पर लगाम लगाने व कानूनी प्रावधानों की जानकारी को लेकर बुधवार को सदर थाने में जिले के थानाध्यक्षों व पुलिस पदाधिकारियों की एक कार्यशाला आयोजित की गई। कार्यशाला में जिले में दर्ज 27 मामलों की समीक्षा कर कई निर्देश भी दिए गये।

मुख्यालय डीएसपी गणपति ठाकुर ने कार्यशाला को संबोधित करते हुए मादक पदार्थ की सूचना पर कैसे कार्रवाई की जाएगी इसकी विस्तृत जानकारी दी। बताया कि गांजा, चरस या अन्य मादक पदार्थ की सूचना किसी थाना को मिलती है तो तुरंत वरीय अधिकारी को सूचित किया जाय। वरीय अधिकारी के निर्देश पर टीम का गठन कर छापेमारी की जाएगी। उन्होंने मादक पदार्थों की जांच, अनुसंधान व अन्य जानकारी देते हुए कहा कि इस मामले में संलिप्त लोगों को न्यायालय से अधिक से अधिक सजा मिले इस हेतु प्रयास करना चाहिए। सदर अंचल के पुलिस निरीक्षक अनिल कुमार ¨सह ने बारीकी से सभी बिन्दुओं पर जानकारी देते हुए कहा कि एनडीपीएस एक्ट के तहत काफी सावधानी व सजगता से कार्य करना होगा। तभी आरोपित को अधिक सजा न्यायालय से दिलाई जा सकती है। इस दौरान सदर थानाध्यक्ष आरके ¨सह, सोनवर्षा थानाध्यक्ष मो. इजहार आलम, बलवाहाट ओपीध्यक्ष पंचलाल, महिषी थानाध्यक्ष हरेश्वर प्रसाद ¨सह समेत अन्य कई पुलिस पदाधिकारी व थानाध्यक्ष मौजूद थे।

Posted By: Jagran