संस, सहरसा : शनिवार को राज्य के गन्ना उद्योग एवं विधिमंत्री प्रमोदी कुमार की अध्यक्षता में विकास भवन में गन्ना कृषकों का एक दिवसीय प्रशिक्षण आयोजित किया गया। बैठक में स्थानीय विधायक सह कला संस्कृति मंत्री डा. आलोक रंजन भी उपस्थित थे। गन्ना मंत्री ने किसानों को संबोधित करते हुए कहा कि राज्य सरकार मुख्यमंत्री गन्ना किसान योजना के तहत राज्य में ईख उत्पादन के लिए संकल्पित है। इसके लिए किसानों को प्रोत्साहन के रूप में बीज की खरीद से लेकर चीनी मील तक ईख की ढुलाई और खंसारी उ्द्योग लगाने के लिए अनुदान राशि का प्रावधान किया गया है। उन्होंने कहा कि इस इलाके में गन्ना उत्पादन की बड़ी संभावना है। किसान इसका लाभ उठाएं। कला संस्कृति मंत्री डा. आलोक रंजन ने बताया कि एक समय कोसी क्षेत्र में गन्ना का काफी उत्पादन होता था, परंतु ढुलाई की व्यवस्था समाप्त होने के कारण धीरे- धीरे इसका उत्पादन ठहर गया। सरकार की नई नीति से यह इलाका गन्ना उत्पादन कर काफी खुशहाल हो सकता है।

प्रशिक्षण शिविर ईख विभाग के अधिकारी व सहनपुर शुगर मिल्स के प्रतिनिधि द्वारा गन्ना की उन्नत खेती, गन्ना के बीज के किस्म, इसके उपयोग, जुताई, खाद के प्रयोग, खेती में मिल से निकलनेवाला राख डालने, मृदाजनित कीटों से बचाव आदि के संबंध में विस्तार से जानकारी दिया। प्रशिक्षकों ने बताया गया कि कहीं- कहीं गन्ना का टुकड़ा उपयोग किया जाता है, तो उचित नहीं है। इसके लिए उपयुक्त बीज ही उपयोग करें। बताया गया कि मिल से निकलनेवाले राख के उपयोग से 20 से 25 प्रतिशत उत्पादन में बढ़ोतरी हो सकता है। प्रशिक्षकों ने किसानों के पूछे गए सवालों का भी जबाव देकर संतुष्ट किया। मौके पर उप विकास आयुक्त व जिले के सैकड़ों किसान मौजूद रहे।

Edited By: Jagran