सहरसा। जल संसाधन विभाग के लगातार प्रयास के बाद कोसी तटबंध के ई टू स्पर के समीप क्लोजर बांध पर नदी के भारी दबाव को नियंत्रित कर लिया गया। नदी की मुख्य धारा लगभग 20 से 25 फीट की दूरी में लूप बनाकर बांध की ओर बढ़ रही थी। जिसकी चपेट में क्लोजर बांध के आसपास बसे लगभग आधा दर्जन लोगों का आशियाना आ सकता था जबकि मस्जिद भी कटाव की भेंट चढ़ सकती थी। स्थानीय लोगों एवं जल संसाधन विभाग के सक्रियता के बाद सुरक्षात्मक कार्य किए जाने से इसे फिलहाल नियंत्रित कर लिया गया है। विभाग के मुख्य अभियंता प्रकाश दास एवं प्लड फाइ¨टग फोर्स के चेयरमैन महेंद्र चौधरी लगातार स्थिति पर नजर बनाए हुए हैं। कनीय अभियंता किशोर कुमार ने बताया कि जिओ बैंक में नायलन क्रेट बांस पाई¨लग एवं ईंट की सूरखी डालकर दबाव को कम कर दिया गया है। इस बीच कोसी नदी का जलस्तर 90 हजार से भी कम होने के कारण कटाव को नियंत्रण में लाने में सहयोग मिला है। स्थानीय लोग अहमद अब्बास, रब्बान, शमशुल हुदा, विजय यादव आदि ने बताया कि सरकार उन लोगों के लिए पुनर्वास की स्थाई व्यवस्था सुनिश्चित करें हर साल उन्हें कोर्सी का कोपभाजन बनना पड़ता है। बताया कि विस्थापित लोगों को पुनर्वास देने हेतु सरकार के निर्णयानुसार अंचलाधिकारी द्वारा सूची भी बनाई गई थी। जो सूची संचिकाओं में दबकर रह गई है ।

Posted By: Jagran