सहरसा। राष्ट्रीय परिवाद दिवस के अवसर पर शुक्रवार को सरकारी कर्मचारियों ने समाहरणालय के मुख्य द्वार पर जमकर नारेबाजी की। बिहार राज्य अराजपत्रित कर्मचारी महासंघ के आह्वान पर प्रधानमंत्री को कर्मचारी श्रमिक, आमजन विरोधी नीति तथा मुख्यमंत्री को स्थानीय समस्याओं से संबंधित मांग पत्र का सलेख जिलाधिकारी को सौंपा गया।

शिष्टमंडल द्वारा ठेका, संविदा, मानदेय, आउटसोर्सिंग, स्कीम वर्कर्स, दैनिक वेतन भोगी मौसमी कर्मचारियों की सेवा नियमित करने, कमांड कर्मचारियों को राज्य कर्मियों का दर्जा देते हुए उसी की भांति पंचम, षष्ठम, एवं सप्तम वेतन पुनरीक्षण का लाभ के साथ एसीपी/एमएसीपी का लाभ अविलंब प्रदान करने की मांग किया गया। कर्मचारियों ने एनपीएस समाप्त कर सबको पुराने पेंशन का लाभ देने, कर्मचारियों एवं पेंशनरों का जनवरी 2020 से डीए एवं डीआर पर लगी रोक लगाने, सामान का समान वेतन देने, सार्वजनिक क्षेत्र के निजीकरण पर रोक लगाने, कर्मियों की प्रोन्नति पर रोक संबंधी आदेश को वापस लेने की मांग की गई।

परिवाद दिवस के माध्यम से अनिवार्य सेवानिवृत्ति एवं संविदा आउटसोर्सिंग कर्मी विरोधी काले आदेश को वापस लेने, वर्ष 2013 के बाद की हड़ताल अवधि को विनियमित करते हुए अवधि का वेतन भुगतान करने, मंत्रिपरिषद के निर्णय अनुसार क्षेत्रीय स्थापनाओं में निम्न वर्गीय एवं उच्च वर्गीय लिपिक के पदों का 60/40 के अनुपात में वर्गीकरण संबंधी आदेश निर्गत करने की मांग की गई। मांगपत्र में कर्मचारियों को समय से वेतन/मानदेय/प्रोत्साहन राशि का भुगतान करने, तथा इसके निमित पर्याप्त आवंटन उपलब्ध कराने का अनुरोध किया गया।

प्रतिवाद दिवस कार्यक्रम में जिला मंत्री शरद कुमार, प्रमंडलीय मंत्री संतोष झा समाहरणालय संघ के अध्यक्ष प्रभात सिंह, मंत्री समरेंद्र सिंह, सुरज कुमार, मनोज झा, बमबम झा, ाजस्व कर्मचारी संघ के रामनाथ प्रसाद ,अनिल मिश्र, धर्मेंद्र यादव,राकेश झा, स्वास्थ्य कर्मचारी संघ से सावन कर्ण, धर्मेंद्र कुमार, पंकज, शिक्षा अनुसचिवय कर्मचारी संघ से ललित नारायण मिश्र, शशिभूषण सिंह, कृष्ण कुमार ,अमरनाथ चौबे अमोल कुमार झा पीएचडी कर्मचारी संघ के बच्चा सिंह, काडा संघ एवं सिचाई से मनोहर प्रसाद सिंह ,बिरेन्द्र कुमार , पवन कुमार, चन्देश्वरी प्रसाद यादव, अमिताभ सिंह, उमेश यादव, संजय कुमार , कश्यप कुमार मुन्ना आदि मौजूद रहे।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप