समान काम, समान वेतन समेत अन्य मांगों को लेकर नियोजित शिक्षकों की सोमवार से प्रारंभ अनिश्चितकालीन हड़ताल दूसरे दिन मंगलवार को भी जारी रही। जिला मुख्यालय में शिक्षकों ने डीईओ कार्यालय पर धरना देकर अपना विरोध जताया।

नियोजित शिक्षकों की हड़ताल से विद्यालयों के पठन-पाठन पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ने लगा है। वैसे विद्यालयों में ताले लग गए हैं, जहां सिर्फ नियोजित शिक्षक ही हैं। वहां पर पढ़ने गए बच्चे ताला बंद देख वापस घर लौट गए। कुछ विद्यालयों में नियमित शिक्षकों ने स्कूल चलाया तो कुछ ने हड़ताल का मौन समर्थन भी दिया। वहीं हड़ताल पर जाने वाले शिक्षकों के विरूद्ध कार्रवाई भी शुरू कर दी है। डीईओ ने सभी हड़ताली शिक्षकों से स्पष्टीकरण पूछते हुए दो दिन के अंदर जवाब देने को कहा है। बिहार राज्य शिक्षक संघर्ष समन्वय समिति के सदस्यों ने हड़ताल के समर्थन में डीईओ कार्यालय के समक्ष धरना दिया।

राकेश रंजन मिश्रा की अध्यक्षता में आयोजित धरना में शिक्षकों ने कहा कि बिहार सरकार उनके साथ नाइंसाफी कर रही है। एक ही तरह के काम के लिए दो प्रकार का वेतन दे रही है। यही नहीं विभागीय अधिकारियों व कर्मियों की अकर्मण्यता के कारण उन्हें समय पर वेतन भी नहीं मिल रहा है। जिस वजह से उनका त्योहार हर वर्ष फीका-फीका बीतता है। सेवा पुस्तिका संधारण व वेतनमान निर्धारण के लिए उन्हें बेवजह परेशान किया जाता है। न तो अधिकारी बात सुनने को तैयार रहते हैं न कर्मी। हमारी मांग जायज और पूरा होने तक हड़ताल जारी रहेगी। इस बार मांग को लेकर आर-पार की लड़ाई हम शिक्षक लड़ेंगे। शिक्षकों की हड़ताल व धरना संवैधानिक तरीके व शांतिपूर्वक किया जा रहा है। धरना में प्रमोद कुमार शुक्ला, उत्तम प्रकाश पांडेय, वाहिद अनवर, जगन्नाथ सिंह, जयप्रकाश सिंह, संतोष कुमार सिंह, देवेंद्र कुमार राय, राकेश कुमार सिंह, अरूण कुमार, अमर ज्योति, बब्लू सिंह, विनोद कुमार, अनिल कुमार, सुमन पांडेय, मदन कुमार, सुनील, कुमार, शादाब अख्तर, उदय पाल, मो. इजहार आलम, पुष्पा कुमारी, रंजीत कुमार, अनिल कुमार वर्मा, प्रेमचंद्र प्रसाद गुप्ता, मधुरेश कुमार पांडेय, दीपक राज, श्रीराम सिंह, दिनेश कुमार, विनोद कुमार, कौशल कुमार, लीलावती कुमारी समेत अन्य शामिल थे। इस संबंध में डीईओ प्रेमचंद्र ने कहा कि स्कूल बंद कर हड़ताल पर जाने वाले नियोजित शिक्षकों से स्पष्टीकरण पूछा गया है। जवाब प्राप्त होने के बाद अन्य कार्रवाई की जाएगी।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस