रोहतास। पति की दीर्घायु के लिए सुहागिनों ने बुधवार को हरितालिका तीज व्रत रखा। बाजारों में व्रत को ले पूजा सामग्री व फलों की भी जमकर खरीदारी की गई। दिन भर निराहार रह नदी तालाब व अन्य जल स्त्रोतों में स्नान कर शाम में शिव पार्वती की पूजा व कथा श्रवण कर मनोवांछित फल प्राप्ति की कामना की। व्रत को ले दिन भर भक्ति का माहौल रहा। व्रती महिलाएं हरितालिका व्रत का कथा श्रवण कर दान दिया।

आचार्य प्रो. श्रीधर मिश्र ने बताया कि यह व्रत करने से सात जन्मों तक सौभाग्य की वृद्धि व जीवन में सुख-समृ्िद्ध की प्राप्ति होती है। इस व्रत में रात्रि जागरण का विशेष महत्व है। आज ही मां पार्वती ने शिव को पति रुप में प्राप्त करने के लिए कठिन तप कर व्रत रखा था। तब भगवान शिव ने प्रसन्न होकर उन्हें अद्र्धांग्नि के रुप में स्वीकार किया था। इसबार इस व्रत के साथ अछ्वुत संयोग है। वहीं शिवसागर, चेनारी, करगहर, नोखा, कोचस सहित अन्य प्रखंडों में भी सुहागिन महिलाओं ने पति की दीर्घायु के लिए पूरे दिन का व्रत रखा। हरितालिका तीज के मौके पर गौरी-गणेश की पूजा अर्चना की। महिलाओं ने कहा कि इस कठिन व्रत के कारण ही मां पार्वती भगवान शंकर को पति के रुप में वरण कर पाई थी। पूजन सामग्री, पेड़किया-अनरसा तथा फूल व माला की दुकानों पर काफी भीड़ देखी गई। सामान्यत: माला 40 रुपये में बिका। खीरा, मक्का की मांग रही।

Posted By: Jagran