रोहतास। प्रारंभिक शिक्षक मूल्यांकन परीक्षा में तीन बार फेल होने के बाद सेवा से हटाए गए शिक्षकों के लिए खुशखबरी है। सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर हरकत में आया शिक्षा विभाग ने फिर से नौकरी में बहाल करने का निर्णय लिया है। सेवा से हटाए गए शिक्षकों को पुन: सेवा में वापस लेने की शीघ्र कार्रवाई करने का निर्देश विभाग के विशेष सचिव विनोद कुमार ¨सह ने जिला शिक्षा पदाधिकारी को भेज दिया है। जिसमें कहा गया है कि सेवा से हटाए गए वैसे शिक्षकों की सेवा पुरानी तिथि से ही मान्य रहेगी ।हालांकि सेवा से हटाने से लेकर पुन: बहाल करने की अवधि का वेतन भुगतान नहीं किया जाएगा। विभाग वैसे शिक्षकों पर नो वर्क नो पे की नीति का अनुसरण करेगी । दक्षता परीक्षा में तीन बार असफल होने के बाद भी अब तक सेवा में बने हुए हैं तथा वह अगले आदेश तक बने रहेंगे। निर्देश के तहत वैसे सभी शिक्षकों को छह माह का प्रशिक्षण देने के बाद दक्षता परीक्षा ली जाएगी । इस संबंध में सुप्रीम कोर्ट ने लगभग छह माह पहले ही यह आदेश दिया था। बताते चले कि बिहार नगर पंचायत प्रारंभिक नियोजन एवं सेवा शर्त संशोधन नियमावली 2015 में तीन बार दक्षता परीक्षा में असफल होने वाले नियोजित शिक्षक को सेवा से हटाने का प्रावधान है। विभाग के इस फैसले से जिले में नौकरी से वंचित हुए एक दर्जन से अधिक शिक्षकों में खुशी व्याप्त है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस