आदर्श कुमार तिवारी, सासाराम : रोहतास। प्रतिभा जब उफान मारती है तो संसाधनों का अभाव भी बौना हो जाता है। इसके पीछे उसके परिवार का त्याग, अपनों के समर्पण और भरोसा बहुत बड़ा योगदान देता है। ऐसी ही एक बेटी जिले के तिलौथू प्रखंड के महराजगंज की निशि हैं जो राष्ट्रीय स्तर की जैवलिन थ्रो की युवा खिलाड़ी बन राज्य और देश में अपना स्थान बना ली हैं। अबतक एक दर्जन स्वर्ण व अन्य मेडल अपने नाम कर चुकी हैं। 

बिहार के लिए कई पदक जीता

निशि के पिता रमेश चौधरी बताते हैं कि उनके पास संपत्ति के नाम पर एक बेटा व बेटी के अलावा कुछ भी नहीं है। वे मजदूरी का कार्य करते हैं और उनकी पत्नी गृहणी हैं। बावजूद इसके आज उनकी बेटी निशि राज्यस्तर पर भाला फेंक बिहार के लिए स्वर्ण से लेकर अन्य मेडल जीत रही है। राज्य स्तरीय कई प्रतियोगताओं में उन्होंने बिहार के लिए पदक जीता है। इंटरमीडिएट पास 18 वर्षीया निशि की यह सफलता मात्र चंद दिनों की नहीं है। इसके पीछे संघर्षों से भरा एक लंबा सफर है। 

गांव व स्कूल से ही की अभ्यास 

निशि बताती हैं कि उनको प्रोत्साहित करने वाले प्रथम गुरु उनके पिता ही रहे हैं। इसके बाद तिलौथू स्थित सरस्वती विद्या मंदिर के शारीरिक शिक्षक गुंजन कुमार ने इनकी प्रतिभा को पहचाना और खेलने के लिए प्रोत्साहित किया। गांव में रहकर दसवीं तक की पढाई इसी विद्यालय से की, इसके बाद इंटरमीडिएट इंद्रपुरी उच्च विद्यालय से किया। मजदूर पिता की बेटी होने की वजह से पिता की इतनी हैसियत नहीं थी कि वे किसी बड़े शहर में रख अच्छी ट्रेनिंग दिलवा पाएं। मजबूरी में निशि गांव व स्कूल से ही अभ्यास कर कई राज्यस्तरीय प्रतियोगिताओं में मेडल जीती।

जैवलिन थ्रो में कई मेडल राज्य के नाम :

निशि बताती हैं कि उन्होंने अभी तक जिन भी प्रतियोगिताएं में भाग लिया उन सब में उनका बेहतर प्रदर्शन रहा है। पहली बार उन्होंने वर्ष 2020 में मुजफ्फरपुर में आयोजित जिला स्तरीय प्रतियोगिता में भाग लिया। इसमें उन्होंने प्रथम स्थान लाकर स्वर्ण पदक अपने नाम किया। इसके बाद 2021 की प्रतियोगिता कोरोना की वजह से स्थगित हो गई। 2022 में आसाम में आयोजित जूनियर नेशनल गेम में बिहार के लिए चौथा स्थान प्राप्त करते हुए ब्रांज मेडल पाई।

सरकारी खर्चे पर भुवनेश्वर की कीट यूनिवर्सिटी में प्रशिक्षण ले रही 

एथलेटिक्स फेडरेशन ऑफ इंडिया द्वारा आयोजित टाटा स्टील फोर्थ इंडियन जैवलिन थ्रो कंपटीशन 2022 में बिहार का प्रतिनिधित्व कर रही निशि ने तीसरा स्थान प्राप्त कर ब्रांज मेडल अपने नाम किया। पूर्वी भारत के राज्यों के साथ हुई प्रतियोगिता में निशि ने बिहार के लिए स्वर्ण पदक जीत सबका ध्यान अपनी ओर आकर्षित किया। वर्तमान में निशि यूनियन नेशनल प्रतियोगिता के लिए सरकारी खर्चे पर भुवनेश्वर की कीट यूनिवर्सिटी में प्रशिक्षण ले रही हैं।

Edited By: Prashant Kumar pandey

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट