रोहतास। रेलवे मेगा ब्रिज जाम होने शहर के दर्जनभर मोहल्ले जलमग्न हो गए हैं। करनसराय, मदरसा रोड, पंजाबी मोहल्ला, राजपूत कॉलोनी, नयका गांव, धर्मशाला रोड, अड्डा रोड, गजराढ़, कंपनीसराय, सिविल लाइंस, चूना भट्टा बौलिया, स्टेशन कॉलोनी, प्रेमचंद पथ समेत कई मोहल्लों में जलजमाव से स्थिति विकराल हो गई। घरों में अभी घुटने भर पानी जमा है। जलजमाव की समस्या से जूझ रहे मुहल्लेवासियों के त्राहिमाम संदेश के बाद सोमवार का नगर परिषद की ईओ हिमानी कुमारी ने रेलवे मेगा ब्रिज की स्थिति का जायजा लिया। रेलवे पटरी के नीचे बने मेगा ब्रिज से पानी निकालने की नगर परिषद की तमाम कवायद बेअसर रही। ईओ के अनुसार सफाई कर्मियों को जेसीबी के माध्यम से जाम पड़े ब्रिज को साफ करने के प्रयास किया गया, परंतु रेले पटरी बीच में होने के कारण नगर परिषद की जेसीबी से उसकी सफाई संभव नहीं हो पा रही है।

ईओ की माने तो डीएफसीसी रेलवे लाइन निर्माण के दौरान रेलवे के अभियंताओं की तकनीकी अदूरदर्शिता के कारण मेग्रा ब्रिज जाम हो गया है। समस्या के विकराल होते देख ईओ ने इस संबंध में वस्तुस्थिति की जानकारी डीएम पंकज दीक्षित को देते हुए इस गंभीर समस्या के संबंध में डीआरएम मुगलसराय से बातचीत कर समाधान कराने का आग्रह भी किया। उन्होंनें बताया कि रेलवे के स्थानीय अभियंताओं से भी संपर्क किया गया, लेकिन उनके स्तर से अभी तक कोई कार्रवाई नहीं की जा सकी है। जलजमाव की समस्या से जूझ रहे राजपूत कॉलोनी के भोला सिंह कहते है कि शहर की जल निकासी की व्यवस्था पूरी तरह से धवस्त हो गई है। शहर की भौगोलिक स्थिति के तहत लंबे समय से शहर के दक्षिणी हिस्से के पानी का बहाव उत्तर की तरफ था। रिटायर्ड प्रधानाध्यापक गोपाल सिंह कहते है कि इस बार गजराढ़ नाला की सफाई भी नहीं की गई। जिस कारण स्थिति भयावह हो गई है। इनसेट

वार्ड पार्षद ने भी ईओ से लगाई गुहार

सासाराम: शहर के वार्ड संख्या 21 की पार्षद लखरानी देवी ने नप ईओ हिमानी कुमारी को पत्र लिख लखनुसराय मोहल्ले में जल जमाव की समस्या पर ध्यान आकृष्ट कराया है। वार्ड पार्षद के अनुसार कादिरगंज-छवकोनवा रोड में बने सिवरेज नाला से समस्या उत्पन्न हो गई। लखनुसराय मोहल्ले से निकली नाली नीचे होने के चलते सिवरेज से पानी निकासी होने के बजाए उलटे पानी मोहल्ला में घुस रहा है। पानी के दबाव के कारण 12 फीट नाला भी टूट गया है। वार्ड पार्षद की माने तो सिवरेज निर्माण के दौरान मोहल्ला का लेबल नीचे होने के बारे में बुडको के अभियंताओं को जानकारी भी दी गई थी। बुडको अभियंता ने इसकी नोटिस नहीं ली।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप