जिला प्रशासन ने स्थानीय रोहतास महिला कॉलेज में शुक्रवार को निर्वाचक साक्षरता पर कार्यशाला का आयोजन किया गया। जिसमें लोकतंत्र की मजबूती पर प्रकाश डाला गया। इस दौरान निर्वाचन में युवा मतदाताओं की भूमिका को विस्तार से बताया गया। डीएम पंकज दीक्षित, जिला उपनिर्वाचन पदाधिकारी सत्यप्रिय कुमार, अपर अनुमंडल पदाधिकारी रिजवान फिरदौस कुरैशी व प्राचार्य डॉ. सुधीर कुमार की मौजूदगी में उद्घाटन छात्राओं ने दीप प्रज्ज्वलित कर किया।

डीएम ने कहा कि लोकतंत्र को मजबूत बनाने में युवा मतदाताओं की भूमिका सबसे अहम है। वैसे छात्र-छात्राएं जिनकी उम्र एक जनवरी को 2020 को 18 साल को पूरा हो गई है, वे निर्वाचक सूची में शामिल हो सकते हैं। चाहे वह एप के माध्यम से अपना नाम दर्ज कराएं या प्रपत्र से। कहा कि सिर्फ मतदाता बनने से ही सशक्त लोकतंत्र की स्थापना नहीं की जा सकती है। इसके लिए एक-एक वोट चुनाव के दिन पड़े, इसकी जिम्मेदारी हर मतदाता की है। युवा वोटरों की भूमिका सबसे अहम इसलिए मानी जाती है कि वे मोटिवेटर के रूप में जाने जाते हैं। इसी उद्देश्य से कॉलेजों व उच्चतर माध्यमिक विद्यालयों में निर्वाचक साक्षरता क्लब का गठन किया गया है। कार्यशाला को जिला उपनिर्वाचन पदाधिकारी व प्राचार्य के अलावा कॉलेज के शिक्षकों ने भी अपना विचार रखा। इस अवसर पर एनएसएस पदाधिकारी डॉ. प्रदीप कुमार राय, डॉ. कामेश्वर सिंह, शशि रंजन, अनिल कुमार, डॉ. शहला बानो, डॉ. विष्णु लोक बिहारी श्रीवास्तव, डॉ. विजय शंकर, डॉ. गिरिजा उरांव, डॉ. ताप्ती मुखर्जी, डॉ. सावित्री सिंह, डॉ. सीमा कुमारी समेत अन्य उपस्थित थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस