रोहतास। अमान्य डिग्री व फर्जी सर्टिफिकेट पर बहाल शिक्षकों की परेशानी थमने का नाम नहीं ले रही है। वर्ष 2014 के बाद से सिर्फ बैचलर ऑफ फिजिकल एजुकेशन (बीपीई) की डिग्री पर बहाल शिक्षकों को अवैध मानते हुए उन्हें हटाने की कार्रवाई करने का निर्देश शिक्षा विभाग ने डीईओ के अलावा संबंधित नियोजन इकाई को दिया है। नए फरमान से नवंबर 2014 के बाद जिले के उच्च विद्यालयों में नियोजित लगभग पांच दर्जन शारीरिक शिक्षक प्रभावित होंगे।

डीईओ को भेजे पत्र में विभाग के उप सचिव ने कहा है कि एनसीटीई ने नवंबर 2014 में अधिसूचना जारी कर शारीरिक शिक्षकों के लिए बीपीई के साथ बीपीएड की डिग्री होना आवश्यक कर दिया है। इसलिए अधिसूचना तिथि के बाद सिर्फ बीपीई डिग्री पर बहाल शिक्षकों को अवैध माना गया है। उक्त आदेश पर सक्षम प्राधिकार का अनुमोदन प्राप्त है। इस संबंध में डीईओ महेंद्र पोद्दार ने कहा कि बीपीई डिग्रीधारी शारीरिक शिक्षकों को हटाने से संबंधी आधिकारिक रूप से पत्र उन्हें प्राप्त नहीं हो सका है। पत्र प्राप्त होते ही उसके आलोक में अग्रतर कार्रवाई की जाएगी।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस