संवाद सूत्र करगहर रोहतास। बिहार में शिक्षा व्यवस्था भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ गई है। यहां विद्यालयों महाविद्यालयों में पढ़ाई नाम की कोई चीज नहीं है। मात्र नामांकन एवं परीक्षा के लिए भवन बनाए गए हैं। यह बातें गुरुवार को राज्य सहकारी बैंक के चेयरमैन सह राजद नेता रमेश चौबे ने करगहर विधानसभा क्षेत्र के कई गांव का दौरा करने के बाद कही।

उन्होंने कहा कि जबतक शिक्षा में सुधार नहीं होगा तबतक लोग अपने अधिकार व कर्तव्य के बारे में समझ नहीं पाएंगे। प्राथमिक विद्यालयों से ले कॉलेज तक में पढ़ाई के लिए ठोस व्यवस्था नहीं हो पाई है। शिक्षकों को भी सम्मानजनक स्थिति में नहीं रखा गया है। गैर शिक्षण कार्य में आज भी शिक्षक लगे हुए हैं। जबकि शिक्षकों को केवल शैक्षणिक कार्य लेने का निर्देश कोर्ट तक ने सरकार को दिया है। कहा कि शिक्षकों का सम्मान व कार्यों में पारदर्शिता ला बदहाल शिक्षा वयवस्था को पटरी पर लाने का वे प्रयास कर रहे हैं।

कहा कि वे करगहर का नाम बिहार के मानचित्र पर रोशन करने का प्रयास करेंगे । नरवर पंचायत के कई गांव में रमेश चौबे ने ग्रामीणों से मुलाकात कर समर्थन की अपील की। मौके पर पैक्स अध्यक्ष विमल उपाध्याय, सुरेंद्र दुबे, मनीष चौबे, कमलेश चौबे, पप्पू पाठक, वीरेंद्र पाठक, राम बच्चन पांडे, संजय दुबे, जय गोपाल सिंह यादव, लड्डू उपाध्याय सहित कई लोग शामिल थे।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस