जागरण संवाददाता, पूर्णिया : पूर्वानुमान के अनुसार मानसून की वर्षा जारी है। जून माह में मानसून जमकर बरसा है। माह के शुरुआत में थोड़ी कम वर्षा हुई लेकिन जाते-जाते मानसून जमकर बरसा है। पिछले दो दिनों से लगातार बारिश हो रही है। बुधवार को भी दिन भर बारिश हुई। पूर्णिया मौसम केंद्र द्वारा बुधवार को शाम तक 96 एमएम वर्षा रिकार्ड की गई। वहीं अगले 24 घंटे में भी बारिश की संभावना बनी हुई है। मौसम केंद्र द्वारा एक जून से अब तक 336 एमएम वर्षा रिकार्ड की गई है जो सामान्य श्रेणी में आती है। मौसम केंद्र के राकेश कुमार ने बताया कि इस सीजन चालू माह में गत वर्ष की तुलना में 100 एमएम से अधिक वर्षा हुई है। बताया कि गुरुवार को भी आसमान में बादल छाए रहेंगे तथा बारिश की संभावना बनी हुई है। इस दौरान मेघ गर्जन और वज्रपात भी होने का अनुमान है। इस सीजन जून माह में 356 एमएम वर्षा हुई रिकार्ड

मंगलवार से शुरू हुई बारिश का क्रम बुधवार को भी जारी रहा। सुबह ही आसमान में काले बादल घिर आए तथा रिमझिम बर्षा शुरू हो गई। दिन चढ़ने के साथ वर्षा का रफ्तार भी बढ़ा तथा कभी तेज तो कभी हल्की बारिश होती रही। इस दौरान इस्टर्न हवा चलती रही जिसकी रफ्तार 5-7 किमी प्रति घंटा रहा। मंगलवार की रात से बुधवार की सुबह आठ बजे तक 76 एमएम वर्षा रिकार्ड की गई जबकि उसके बाद शाम तक 20 एमएम वर्षा हुई। इस तरह बुधवार को कुल 96 एमएम वर्षा रिकार्ड की गई। इस तरह पिछले दो दिनों में यहां 123.2 एमएम वर्षा हो गई है जो सामान्य से अधिक है। यदि जून का रिकार्ड देखें तो इस माह अब तक 356 एमएम बारिश हो चुकी है। जबकि माह को गुजरने में अभी 24 घंटा शेष है और वर्षा का क्रम जारी है। मौसम विभाग के रिकार्ड के अनुसार गत वर्ष 2021 में एक जून से 30 जून तक 256 एमएम बारिश हुई थी लेकिन इस बार एक से 29 जून तक 356 एमएम वर्षा रिकार्ड हो चुकी है। यानि गत वर्ष की तुलना में अब तक 100 एमएम अधिक वर्षा हो चुकी है। मानसून की अच्छी बारिश से किसानों को इस बार काफी लाभ मिलने का अनुमान है। खासकर धान की फसल इस बार अच्छी होने की संभावन जताई जा रही है। तापमान में गिरावट आने से मौसम बना रहा कूल

लगातार हो रही बारिश से मौसम भी सुहाना हो गया है। गत सप्ताह जहां उमस भरी गर्मी का सामना लोगों को करना पड़ रहा था वहीं चालू सप्ताह में मौसम कूल बन गया है। लगातार तापमान में गिरावट दर्ज की जा रही है। मंगलवार की तुलना में बुधवार को अधिकतम और न्यूनतम दोनों तापमान में गिरावट आई। अधिकतम तापमान करीब एक डिग्री घटकर 27.5 डिग्री हो गया जबकि न्यूनतम तापमान तीन डिग्री घटकर 24.5 डिग्री सेल्सियस पर आ गया। तापमान घटने से लोगों को काफी राहत मिली। लेकिन नगर में जल जमाव से लोगों को परेशानी भी झेलनी पड़ी। हर गली-मोहल्ले में पानी जमा हो गया। राहत की बात यह रही कि बारिश जोरदार नहीं हुई अन्यथा लोगों को घरों से बाहर निकलना मुश्किल हो जाता। इधर मौसम विभाग ने बताया है कि वायुमंडल का दबाव घट रहा है जिस कारण बारिश की संभावना बनी हुई है। ऐसे में गुरुवार को भी मौसम कूल बना रहेगा।

Edited By: Jagran