संस,केनगर (पूर्णिया)। भूमि विवाद एवं अन्य समस्या समाधान को लेकर चम्पानगर ओपी परिसर में जनता दरबार का आयोजन किया गया। जनता दरबार में केनगर अंचलाधिकारी अशोक कुमार सिंह एवं श्रीनगर अंचलाधिकारी विद्यानंद झा एवं ओपी अध्यक्ष ओमप्रकाश के नेतृत्व में फरियादियों की दलील क्रमानुसार सुनी गई। आयोजित जनता दरबार के दौरान कोरोना प्रोटोकाल का विशेष रूप से ध्यान रखा जा रहा था। अंचलाधिकारी अशोक कुमार सिंह ने बताया कि कुल सात मामले में छह मामले का निष्पादन कर दिया गया है। बचे मामले का निष्पादन अगले जनता दरबार बैठक में किया जाएगा। वहीं श्रीनगर अंचलाधिकारी विद्यानंद झा ने बताया कि ओपी क्षेत्र के श्रीनगर अंचल क्षेत्र के सिघिया गांव का कुल तीन पूर्व के लंबित मामलों में एक मामला का निष्पादन कर दिया गया है। शेष मामले का निष्पादन अगले जनता दरबार में कर दिया जाएगा। ओपी अध्यक्ष ने ओमप्रकाश ने उपस्थित पक्ष व विपक्ष को निर्देश दिया की हुए फैसले के विरुद्ध कोई पक्ष किसी प्रकार का विवाद उत्पन्न नहीं करेंगे। यदि किसी पक्ष द्वारा शांति भंग करने का प्रयास किया गया तो जांच में दोषी पाए जाने वाले व्यक्ति के विरुद्ध एक पक्षीय कड़ी कार्रवाई की जाएगी। वहीं संस डगरूआ (पूर्णिया) : भूमि विवाद निपटारे को लेकर थाना परिसर में जनता दरबार का आयोजन अंचलाधिकारी रमण कुमार सिंह और थानाध्यक्ष आर सी मंडल द्वारा संयुक्त रूप से किया गया। थाना परिसर में आयोजित जनता दरबार में कुल तीन आवेदन की सुनवाई की गई जिसमें दो मामले को निष्पादन किया गया वहीं एक मामले के निपटारे को लेकर अगली तिथि निर्धारित की गई। जनता दरबार में आये रफिया खातुन और अफाजुद्दीन के मामले में अंचल अमीन से नापी करवाने की बात कही गई। वहीं ज्योतिष शर्मा और परमदेव शर्मा अलमा निवासी के बीच रास्ते को लेकर चल रहे विवाद मामले में दोनों पक्ष को समझाया गया दोनों पक्ष द्वारा पंचायत कर आपसी समझौता करने की बात कही गई । वहीं साक्ष्य के अभाव में हबीब और शमसाद ग्राम महेशखूट के मामले में पूर्ण साक्ष्य प्रस्तुत नहीं करने पर अगले तिथि को साक्ष्य के साथ आने को कहा गया ।इस मौके पर अंचल निरीक्षक दिलीप कुमार गुप्ता ,राजस्व कर्मचारी राधा मोहन झा मौजूद थे।वहीं संस,बायसी (पूर्णिया) : थाना परिसर में जनता दरबार का आयोजन किया गया जिसमें कुल 10 मामले की सुनवाई की गई ।अंचलाधिकारी मोहम्मद इस्माइल आलम ने बताया कि 10 मामले की सुनवाई की गई जिसमें सात मामले का निष्पादन किया गया जबकि तीन मामले के वादी एवं प्रतिवादी को अगले शनिवार को कागजात के साथ आने का निर्देश दिया गया। उन्होंने बताया कि जनता दरबार में कई ऐसे भूमि विवाद को सुलझाया गया है। नए मामले आने पर विवाद की सुलझाने का प्रयास किया जाएगा।

Edited By: Jagran