पूर्णिया। प्रखंड मुख्यालय में बाढ़ राहत को लेकर अनुश्रवण समिति के सदस्यों ने बैठक में बाढ राहत को लेकर जमकर हंगामा किया। लोगों का कहना था कि सीओ ने गलत ढंग से सर्वे कराया और हजारों पीड़ितो को छोड़ दिया। बैठक की अध्यक्षता प्रमुख रेखा देवी ने कर रही थीं। प्रमुख ने बताया कि सीओ कमलनयन कश्यप का कहना है कि लगभग 8 हजार परिवार ही इस बाढ़ में प्रभावित हैं, जबकि सभी मुखिया की रिपोर्ट देखें तथा उनके द्वारा भी बाढ़ प्रभावित क्षेत्र का दौरा करने के बाद पाया गया था कि लगभग तीस हजार परिवार प्रभावित हुए थे। बता दें कि सीओ ने यहा के विजय लालगंज, विजय मोहनपुर, भौवा प्रबल, काप, कोयली सिमडा पूरब, कोयली सिमडा पश्चिम, गोडियरपटटी श्रीमाता, लक्ष्मीपुर गिरधर, भिखना एवं धूसर टीकापटटी पंचायत को बाढ़ प्रभावित क्षेत्र घोषित किया गया था। बैठक में प्रमुख एवं इन पंचायतों के मुखिया ने आरोप लगाया कि जब 11 पंचायतों को बाढ़ प्रभावित क्षेत्र घोषित किया गया, तब मात्र आठ हजार परिवार ही कैसे प्रभावित हो सकते हैं। वे लोग सीओ के द्वारा किए गए सर्वे पर किसी भी परिस्थिति मे हस्ताक्षर नहीं करेंगे। उनके द्वारा पीड़ित परिवारों की सूची सीओ को सौंप दी गई है। इसी को लेकर लगातार हो-हंगामा होता रहा। प्रमुख ने हंगामा को शात कराया। बैठक में मुखिया गौरी शर्मा, शाति देवी, अमीन रविदास, मुन्नी खातून, सुनीता देवी, सुलोचना देवी, मनोज कुमार जायसवाल, विभा देवी, युवराज मंडल, सासद सहयोगी संजय कुमार बबलू सहित दर्जनों जनप्रतिनिधि एवं पार्टी के कार्यकत्र्ता उपस्थित थे। इस संबंध मे सीओ से संपर्क नहीं हो पाया जबकि

बीडीओ पंकज कुमार ने कहा कि वे बैठक में शामिल हुए थे, परंतु कुछ जरूरी काम से चले गए थे, इसलिए उन्हें पूरी जानकारी नहीं है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस