पूर्णिया। आंगनबाड़ी केंद्र के बच्चों एवं इससे जुड़ी महिलाओं को पोषण वाली सब्जी एवं फल मिले इसको लेकर पोषण वाटिका खोला जाएगा। जलालगढ़ कृषि विज्ञान केंद्र एवं समाज कल्याण विभाग ने इन आंगनबाड़ी केंद्रों में पोषण वाटिका लगाकर गर्भवती महिलाओं एवं आंगनबाड़ी केंद्र के बच्चों को पौष्टिक सब्जी एवं फल उपलब्ध कराने की महत्वाकांक्षी योजना बनाई है। पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर यह योजना पूर्णिया जिले के दो प्रखंड कसबा एवं जलालगढ़ के 50 आंगनबाड़ी केंद्रों में शुरू की जा रही है। एक पोषण वाटिका पर 15 हजार की राशि खर्च की जाएगी। इस पोषण वाटिका की देखरेख करनेवाली आंगनबाड़ी केंद्र की सेविका सहायिका को भी 15 सौ की राशि का भुगतान किया जाएगा। आंगनबाड़ी केंद्रों में लगाई जाने वाली पोषण वाटिका में उपलब्ध जमीन के अनुसार मौसमी पोषण वाली सब्जी एवं फल के पौधे लगाए जाएंगे। इस पोषण वाटिका में तैयार सब्जी एवं फल को पूरी तरह से आंगनबाड़ी केंद्र के बच्चों के लिए पकाया जाएगा और उनके बीच ही खपाया जाएगा। पोषण वाटिका में पालक साग, गाजर, मूली पत्ता गोभी, शलगम, खीरा सहित कई सब्जियां लगाई जाएंगी। इसके अलावा पपीता, केला, एवं आंवला के पौधे लगाए जाएंगे ताकि आंगनबाड़ी केंद्र के बच्चों को पौष्टिक आहार मिल सके। पूर्णिया जिले में 2947 आंगनबाड़ी केंद्र हैं जिसमें 1. 20 लाख बच्चे प्रतिदिन इन आंगनबाड़ी केंद्रों में शरीक होते हैं। इन आंगनबाड़ी केंद्रों में आठ गर्भवती एवं आठ धातृ महिलाओं को भी पोषाहार की राशि उपलब्ध कराई जाती है। पोषाहार के रूप में इन महिलाओं को तीन किलो चावल एवं दो किलो दाल प्रति महिला की दर से दिया जाता है। अब जिन आंगनबाड़ी केंद्रों में पोषण बाटिका लगाई जाएगी उस आंगनबाड़ी केंद्र से जुड़ी गर्भवती एवं धातृ महिलाओं को इस वाटिका में होने वाली सब्जी एवं फल भी उपलब्ध कराया जाएगा। सरकार ने बढ़ते कुपोषण को देखते हुए यह महत्वाकांक्षी योजना बनाई है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस