पूर्णिया। राज्यस्तरीय बालिका कबड्डी प्रतियोगिता 2018 का स्थानीय इंदिरा गांधी स्टेडियम में रविवार को समापन हो गया। अंडर 19, अंडर 17, अंडर 14 तीन वर्गों में तीन दिनों तक प्रतियोगिता आयोजित हुई। अंडर 19 वर्ग में कटिहार ने पटना को हराया। अंडर 17 में एकलव्य केंद्र सीतामढ़ी ने रोहतास को हराया। अंडर 14 वर्ग में मधेपुरा की टीम पटना को हराकर चैंपियन बनी है। इस मैच में विजेता मधेपुरा को 17 अंक मिला जबकि उपविजेता ने 14 अंक ही हासिल किया। इससे पहले इसी वर्ग में सेमीफाइनल मुकाबला का पहला मैच पटना और दरभंगा के बीच खेला गया जिसमें स्कोर 28-13 से पटना के पक्ष में रहा। दूसरा सेमीफाइनल अंडर 14 वर्ग में मधेपुरा और एकलव्य केंद्र सीतमढ़ी के बीच खेला गया जिसमें 29-12 से स्कोर मधेपुरा के पक्ष में रहा। अंडर 17 की विजेता बनी एकलव्य केंद्र सीतामढ़ी जबकि उपविजेता रोहतास की टीम रही। स्कोर 21-16 से एकलव्य केंद्र के पक्ष में रहा। इसी वर्ग में बालिका वर्ग का पहला सेमीफाइनल मैच रोहतास और पूर्णिया के बीच खेला गया। मेजमान टीम के खिलाड़ी 43 अंक अर्जित कर पाए जबकि रोहतास की टीम ने 52 अंक हासिल कर जीत हासिल किया। इस तरह से रोहतास की टीम ने फाइनल में प्रवेश किया। दूसरा सेमीफाइनल एकलव्य केंद्र और बेगूसराय के बीच खेला गया। इस मुकाबले में स्कोर 19-12 से एकलव्य केंद्र के पक्ष में रहा। अंडर 19 बालिका कबड्डी राज्य चैंपियन की विजेता कटिहार की टीम बनी। उपविजेता पटना की टीम रही। स्कोर 17-16 से कटिहार के पक्ष में रहा। सेमीफाइनल मुकाबले में पहला मैच में बेगूसराय और कटिहार के बीच हुआ। इस मैच का स्कोर 27-20 से कटिहार के पक्ष में हुआ। दूसरा सेमीफाइनल मैच पटना और गया के बीच हुआ जिसमें स्कोर 21-11 से पटना के पक्ष में रहा। आखिरी दिन विजेता टीम को जिले के उपविकास आयुक्त रामशंकर ने ट्राफी और मेडल प्रदान किया। तीन दिनों के आयोजन में राज्य की 38 जिलों से 1200 खिलाड़ियों ने हिस्सा लिया और 150 तकनीकी अधिकारी शामिल हुए। इसी आधार पर खिलाड़ियों को राष्ट्रीय बालिका कबड्डी प्रतियोगिता में शामिल होने के लिए राज्य की टीम चयन किया गया है। टीम की घोषणा अभी नहीं की गई है। इस मौके पर डीडीसी ने कहा कि कबड्डी देश की माटी में ही खेली जाती रही है। यह देश का परंपरागत खेल है। इस विधा को अब राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर मान्यता मिल चुकी है। इस इवेंट में जिला स्तर पर खिलाड़ी रुचि के साथ खेलते हैं। इसके लिए किसी विशेष संसाधन या उपकरण या तैयार मैदान की आवश्यकता नहीं होती है। एक जमीन के टुकड़े पर ही खिलाड़ी खेल सकते हैं। जिले में राज्यस्तरीय खेल प्रतियोगिता के आयोजन में बेहतर माहौल बनेगा। आने वाले कुछ दिनों में जिले के खेल प्रेमियों को फुटबॉल और महिला हॉकी खेल का भी आयोजन किया जाएगा। गौरतलब है 19 से जिले में स्थानीय जिला स्कूल और डीएसए मैदान में और राजकीय कन्या उच्च विद्यालय में राज्यस्तरीय महिला हॉकी प्रतियोगिता आयोजित होगी। प्रतियोगिता समापन के मौके पर जिला खेल पदाधिकारी रंधीर कुमार ¨सह ने सभी का आभार व्यक्त किया और कहा कि खेल आयोजन से यहां पर खेल के लिए बेहतर माहौल तैयार होने में और संसाधन विकसित करने में भी मददगार साबित होगा।

Posted By: Jagran