पूर्णिया। आगामी लोकसभा चुनाव एक धर्मयुद्ध है। जिसमें एक तरफ बेईमानी करने वाले, परिवारवाद की राजनीति करने वाले हैं तो वहीं दूसरी ओर सूबे को विकास के पथ पर ले जाने वाले हैं। इंसाफ जनता को करना है कि उन्हें कैसा प्रतिनिधि चाहिए। उक्त बातें जदयू के वरिष्ठ नेता सह राज्य के ऊर्जा मंत्री विजेंद्र यादव ने रविवार को इंदिरा गांधी स्टेडियम में जदयू के प्रमंडलीय कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कही। सम्मेलन को भवन निर्माण मंत्री महेश्वर हजारी, कल्याण एवं अनुसूचित जाति व जनजाति मंत्री रमेश ऋषिदेव, सांसद संतोष कुशवाहा सहित प्रमंडल के कई विधायक, पूर्व विधायक व नेताओं ने भी संबोधित किया। सम्मेलन में बड़ी संख्या में कार्यकर्ता उपस्थित थे।

मुख्य अतिथि रूप में बोलते हुए मंत्री विजेंद्र यादव ने कहा कि आज विपक्षी दल एमवाइ समीकरण की दुहाई दे रहे हैं, लेकिन दोनों ही समुदाय के लिए किया कुछ नहीं। जब आरजेडी सत्ता में आई तो एम के सशक्त नेता अब्दुलबारी सिद्दीकी तीसरे नंबर पर चले गए। सत्ता का लाभ उनकी पत्‍‌नी, बेटी और बेटों को मिला। लालूजी को जब जेल जाने से पहले इस्तीफा देना पड़ा तो उन्होंने अपना उत्तराधिकारी अपनी पत्‍‌नी को बनाया, लेकिन जब नीतीश कुमार ने पद छोड़ा तो अपनी गद्दी एक दलित नेता को सौंपी। दोनों दलों के नेताओं में यही फर्क है। राजद और कांग्रेस पार्टी दोनों दल मां, बेटों, बेटियों के इर्द-गिर्द घूम रहे हैं। जबकि नीतीश कुमार अल्पसंख्यकों की शिक्षा के लिए मदरसों का आधुनिकीकरण कर रहे हैं। मदरसा शिक्षकों को सातवें वेतनमान का लाभ दे रहे हैं। रेल मंत्री रहते अल्पसंख्यक बहुल किशनगंज इलाके में रेलवे ट्रैक को स्वीकृति दी। पूर्णिया में मदरसा बोर्ड का क्षेत्रीय कार्यालय, विश्वविद्यालय, मेडिकल कॉलेज उच्च शिक्षा की दिशा में एक बड़ा कदम है। हर जिले में इंजीनिय¨रग कॉलेज, पॉलिटेक्निक, कृषि कॉलेज खोले जा रहे हैं। यातायात एवं बिजली हर गांव-घर तक पहुंच गई है। जनता को यह तय करना है कि उसे अपनी संतान को बेहतर जिंदगी देने वाला, खेती-किसानी को समृद्ध करने वाला, बेहतर सेहत देने वाला, सूबे को विकास के पथ पर आगे ले जाने वाला नेता चाहिए कि बेईमानी कर संपत्ति जमा करने वाला और परिवारवाद करने वाला प्रतिनिधि चाहिए। विजेंद्र यादव ने जदयू कार्यकर्ताओं से प्रमंडल की सभी सीटों पर एनडीए उम्मीदवारों को जिताने की अपील की। इस इलाके के लिए सीमांचल के इस्तेमाल पर भी आपत्ति जताई तथा कहा यह राज्य को विखंडन करने की साजिश है। उन्होंने कार्यकर्ताओें को बड़ी संख्या में आगामी तीन मार्च को पटना के गांधी मैदान में आयोजित एनडीए की रैली में आने का आह्वान भी किया। इस मौके पर पूर्णिया, अररिया, किशनगंज एवं कटिहार के जदयू के सभी विधायकों, विधान पार्षद गुलाम रसूल बलियावी, संजीव कुमार सिंह, रवींद्र तांती, प्रमंडलीय प्रभारी कामाख्या नारायण सिंह, जिला प्रभारी व पूर्व मंत्री दुलाल चंद गोस्वामी, महमूद अशरफ सहित कई पूर्व विधायकों ने भी संबोधित किया।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस