पूर्णिया, जेएनएन। बिहार के पूर्णिया में नागरिकता संशोधन कानून (Citizenship Ammendment Act) को लेकर विरोध प्रदर्शन हुआ। इस प्रदर्शन की खास बात ये रही कि प्रदर्शन में जामिया मिलिया इस्लामिया की पोस्टर गर्ल लदीदा फरजाना भी शामिल हुईं।

जिले में असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी AIMIM ने नागरिकता संशोधन कानून (Citizenship Ammendment Act) के विरोध में रैली का आयोजन किया था। बांग्लादेश की सीमा से सटे बिहार के सीमांचल इलाकों में घुसपैठ का मुद्दा सियासी गलियारों में गर्म रहता है और यहां की राजनीतिक पार्टियां एक-दूसरे पर वोटबैंक की राजनीति का आरोप लगाती रहती हैं। यही वजह है कि CAA के अमल में आने के बाद सीमांचल में ये मुद्दा काफी गर्माया हुआ है।

इस सभा की मुख्य अतिथि जामिया विवि की लदीदा फरजाना थीं और अलीगढ़ के नजमुश साकिव और विशिष्ट अतिथि प्रदेश अध्यक्ष अखतरूल ईमान थे। लदीदा फरजाना ने सभा को संबोधित करते हुए कहा कि एनआरसी काला कानून है यह देश को गुमराह कर देने वाला है। इसे लागू होने नहीं देंगे। उन्होंने कहा कि इसके लिए मैंने जामिया में धरना-प्रदर्शन किया जिसमें पुलिस के द्वारा मुझ पर लाठी चार्ज किया गया।

अलीगढ़ के नजमुश शाकिब कहा कि इससे देश की एकता और अखंडता पर खतरा है। प्रदेश अध्यक्ष अखतरूल ईमान ने कहा कि भाजपा देश को दो भागों में बांटना चाहती है। इसको हमलोग लागू होने नहीं देंगे।

महिला अध्यक्ष डॉक्टर तारा श्वेता आर्या ने कहा कि नीतीश कुमार मानव शृंखला बनाने में लगे हैं उनको चाहिए कि वे इस कानून को रद कराएं। प्रखंड अध्यक्ष नुजहत ने कहा कि मोदी सरकार हिंदू-मुस्लिम को लड़ाने का काम कर रही है। इसको बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

बता दें कि रविवार को प्रखंड क्षेत्र की बाड़ाईदगाह पंचायत के सरवेली उच्च विद्यालय के प्रागंण में असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी एआइएमआइएम पार्टी द्वारा सीएए, एनआरसी और एनपीआर के विरोध में सभा का आयोजन किया गया था। इसका नेतृत्व पार्टी के नेता शहबुज्जमा उर्फ लड्डू ने किया।

Posted By: Kajal Kumari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस