पटना। बिहार के बेखौफ अपराधियों ने आज दुस्साहस की हद कर दी। उन्होंने सूबे की एक महिला मंत्री तथा दो विधायकों से फोन पर 10-10 लाख रुपये रंगदारी की मांग की।

मिली जानकारी के अनुसार, हाजीपुर के विधायक व पूर्व मंत्री वृशिण पटेल और मधेपुरा के विधायक चंद्रशेखर से रंगदारी मांगी गई। दोनों ने जब फोन करने वाले से नाम पूछा तो फोन काट दिया गया।

आज दोपहर करीब 1.55 बजे मधेपुरा के विधायक चंद्रशेखर शास्त्री पटना के बेली रोड स्थित सरकारी आवास संख्या बी/03/23 में थे। तभी उनके मोबाइल पर मोबाइल नंबर 7258865614 से कॉल आया। कॉल करने वाले ने उन्हें सेंट्रल बैंक के दो खातों के नंबर आइएफएससी कोड के साथ लिखवाए और दोनों में पांच-पांच लाख रुपये जमा करने को कहा। जब उन्होंने नाम पूछा तो फोन काट दिया गया।

थोड़ी देर बाद दोपहर करीब 2.05 बजे हाजीपुर के विधायक व पूर्व मंत्री वृशिण पटेल के मोबाइल पर उसी नंबर से कॉल आया। कॉल करने वाले ने उन्हें भी सेंट्रल बैंक का एक खाता नंबर और आइएफएससी कोड दिया, जिसमें उन्हें एकमुश्त 10 लाख रुपये जमा करने को कहा गया। उन्होंने भी जब नाम पूछा तो फोन काट दिया गया। दोनों विधायकों ने पुलिस को इस घटना की जानकारी दे दी है।

उधर, बिहार की पिछड़ा एवं अति पिछड़ा वर्ग कल्याण मंत्री बीमा भारती से भी 10 लाख रुपये की रंगदारी मांगी गई है। मंत्री की शिकायत पर भवानीपुर थाने में प्राथिमकी दर्ज कर ली गई है।

आज दोपहर बीमा भारती के सरकारी मोबाइल पर किसी अज्ञात व्यक्ति ने कॉल कर 10 लाख रुपये की रंगदारी मांगी। बीमा भारती को भी रंगदारी की रकम सेंट्रल बैैंक के एक खाते में जमा करने को कहा गया तथा रकम जमा नहीं करने पर अंजाम भुगतने की धमकी दी गई। कॉल उसी 7258865614 नंबर से आया, जिससे मधेपुरा के विधायक चंद्रशेखर शास्त्री को कॉल किया गया था।

कॉल करने वाले ने बैैंक खाता लिखने का निर्देश दिया तथा कहा कि इसमें 10 लाख रुपये 10 दिन के अंदर जमा कर दें, अन्यथा अंजाम बुरा होगा। उसने सेंट्रल बैैंक का खाता संख्या 3160610546 तथा बैैंक का आइएफएस कोड भी लिखवाया, ताकि रंगदारी की रकम उसमें जमा कराई जा सके। पुलिस जांच में खुलासा हुआ कि रंगदारी मांगने वाले ने जो बैैंक खाता बताया था, वह मधेपुरा जिला के आलमनगर के इंदिरा आवास के एक लाभुक मो. सफरूद्दीन का है।

एक ही मोबाइल नंबर से विधायकों व मंत्री से रंगदारी की मांग के अनुसंधान में पुलिस तालमेल की कलई भी खुल गर्इ। पटना के एसएसपी विकास वैभव ने कहा कि धमकी देने वाले और खाताधारी की पहचान की जा रही है। दूसरी ओर बीमा भारती से रंगदारी मामले में स्थानीय पुलिस खाताधारी का पता लगा चुकी है।

Posted By: Amit Alok

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस